Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2022 · 1 min read

हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका

पिता
गीतिका
————————

हमें पाठ सच का पढ़ाता पिता है ।
कि हर एक रिश्ता निभाता पिता है ।

वो देता है हर एक प्रश्नों का उत्तर ,
जो दुनिया का परिचय कराता पिता है ।

सजाता है रोचक खिलौनों से घर को ,
जो अँगुली पकड़कर चलाता पिता है ।

दुखों या गरीबी से लड़कर हमेशा ,
जो भूखा रहे पर खिलाता पिता है ।

रहा यार चुप वो मेरी जिद के आगे ,
जो ख़ुद हार हमको जिताता पिता है ।

वफ़ादार सेवक है साथी सदा का ,
सिखाता पढ़ाता विधाता पिता है ।

महज़ प्यार रकमिश है फटकार उसकी ,
तेरे दर्द से छटपटाता पिता है ।

– रकमिश सुल्तानपुरी

12 Likes · 15 Comments · 595 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rakmish Sultanpuri
View all
You may also like:
अकेले-अकेले
अकेले-अकेले
Rashmi Sanjay
तुमसे मोहब्बत हमको नहीं क्यों
तुमसे मोहब्बत हमको नहीं क्यों
gurudeenverma198
अंगुलिया
अंगुलिया
Sandeep Pande
नता गोता
नता गोता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*जीवन जीने की कला*
*जीवन जीने की कला*
Shashi kala vyas
"बरसात"
Dr. Kishan tandon kranti
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चेहरे की तलाश
चेहरे की तलाश
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
गाँधी जी की लाठी
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कर्णधार
कर्णधार
Shyam Sundar Subramanian
गजल
गजल
Punam Pande
धरती पर स्वर्ग
धरती पर स्वर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उस
उस"कृष्ण" को आवाज देने की ईक्षा होती है
Atul "Krishn"
मेरे विचार
मेरे विचार
Anju
साठ साल की आयु हुई तो (हिंदी गजल/ गीतिका)
साठ साल की आयु हुई तो (हिंदी गजल/ गीतिका)
Ravi Prakash
मेरे पृष्ठों को खोलोगे _यही संदेश पाओगे ।
मेरे पृष्ठों को खोलोगे _यही संदेश पाओगे ।
Rajesh vyas
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
कवि रमेशराज
पितृ दिवस
पितृ दिवस
Ram Krishan Rastogi
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
डॉ.सीमा अग्रवाल
अय मुसाफिर
अय मुसाफिर
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-540💐
💐प्रेम कौतुक-540💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
Satyaveer vaishnav
नये अमीर हो तुम
नये अमीर हो तुम
Shivkumar Bilagrami
मानकके छडी (लोकमैथिली कविता)
मानकके छडी (लोकमैथिली कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
कान में रखना
कान में रखना
Kanchan verma
■ मनोरोग का क्या उपचार...?
■ मनोरोग का क्या उपचार...?
*Author प्रणय प्रभात*
*शब्द*
*शब्द*
Sûrëkhâ Rãthí
प्यार समंदर
प्यार समंदर
Ramswaroop Dinkar
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
Harminder Kaur
Loading...