Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jan 2023 · 1 min read

पिता की पराजय

पिता की पराजय
************

आज आँखे चमकी
गोद में था जो बेटा
आज जवान हो गया
कंधे तक आ गया अब
और आगे निकल गया
छोटा हुआ बाप मगर
क़िरदार बड़ा हो गया।।

जाने किस किस से बांटी
उसने यह लघु कथा अपनी
सिर उन्नत, गर्व से तना भाल
हाँ, आज, आज मैं हार गया।

बढ़ते सितारों को देखकर
आज चाँद भी मुस्कुराया
टूटा जो तारा कभी नभ से
सूर्य के आँचल में ही आया।।

थाम लिया गगन को उसने
ज्यूँ तर्जनी पर गोवर्धन हो
कर ले इंद्र कितनी ही वर्षा
चूर चूर घमंड उसका हो।

प्रतिस्पर्धा बाहर हो तो
पराजय कुलबुलाती है
कोई न रोके अश्व रथ ये
प्रार्थनाएं बुदबुदाती हैं।।

कांधे पर जब मैं रखता
हाथ उसके, शाबाशी का
भूल जाता जय पराजय
आभार प्रभु! तराशी का।।

है पिता का मोल इतना
हारूँ मैं, हर दिन हारूँ
बढ़ती रहे संतान मेरी
अहं को हर दिन मारूं।

मौन साधक वह प्यारा
नियति से कभी न हारा
आंधियों में दीप शिखा
सा, जलता रहा बेचारा

भोर हस्त मुट्ठिका में ले
चंद्र प्रहर तक पग नापे
पूनम हुई बेटियां जब
ग्रह नक्षत्र संग ही जागे

हर ऊंचाई छोटी लगी
बढ़ते परवाज के आगे
संतति संकल्प समझो
दूर सपने भी पास भागे।।

इस समर में कौन यहाँ
उन्नति से बढ़कर हुआ
एक तात है जो सदा ही
मरकर भी जीवित हुआ।।

सूर्यकान्त

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कल और आज जीनें की आस
कल और आज जीनें की आस
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"तुम्हारी हंसी" (Your Smile)
Sidhartha Mishra
कुछ इस तरह से खेला
कुछ इस तरह से खेला
Dheerja Sharma
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरा एक मित्र मेरा 1980 रुपया दो साल से दे नहीं रहा था, आज स
मेरा एक मित्र मेरा 1980 रुपया दो साल से दे नहीं रहा था, आज स
Anand Kumar
क़यामत
क़यामत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
माँ सरस्वती
माँ सरस्वती
Mamta Rani
न हँस रहे हो ,ना हीं जता रहे हो दुःख
न हँस रहे हो ,ना हीं जता रहे हो दुःख
Shweta Soni
इस जग में है प्रीत की,
इस जग में है प्रीत की,
sushil sarna
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
Govind Kumar Pandey
" पहला खत "
Aarti sirsat
"एको देवः केशवो वा शिवो वा एकं मित्रं भूपतिर्वा यतिर्वा ।
Mukul Koushik
#मानो_या_न_मानो
#मानो_या_न_मानो
*Author प्रणय प्रभात*
कर ले कुछ बात
कर ले कुछ बात
जगदीश लववंशी
स्वर्णिम दौर
स्वर्णिम दौर
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक - वक़्त
मुक्तक - वक़्त
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
विविध विषय आधारित कुंडलियां
विविध विषय आधारित कुंडलियां
नाथ सोनांचली
*मेरा विश्वास*
*मेरा विश्वास*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भगवान महाबीर
भगवान महाबीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*नहीं पूनम में मिलता, न अमावस रात काली में (मुक्तक) *
*नहीं पूनम में मिलता, न अमावस रात काली में (मुक्तक) *
Ravi Prakash
मर्द रहा
मर्द रहा
Kunal Kanth
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
हट जा भाल से रेखा
हट जा भाल से रेखा
Suryakant Dwivedi
लगाव का चिराग बुझता नहीं
लगाव का चिराग बुझता नहीं
Seema gupta,Alwar
महाकाल का संदेश
महाकाल का संदेश
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन की कामना
मन की कामना
Basant Bhagawan Roy
कामयाबी का नशा
कामयाबी का नशा
SHAMA PARVEEN
क्रोध
क्रोध
लक्ष्मी सिंह
क्या कहती है तस्वीर
क्या कहती है तस्वीर
Surinder blackpen
"फागुन गीत..2023"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...