Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
May 10, 2022 · 1 min read

पिता का सपना

****************************************
पिता चाहते है कि समाज सक्षम हो।
समाज में हर एक बच्ची शिक्षित हो।।१।।

मैं! अपने प्यारे पिता की वागीशा हूॅं।
मैं! माता-पिता की बड़ी बालिका हूॅं।।२।।

मेरी हार्दिक इच्छा है- शिक्षिका बनू।
बड़ी होके मैं! ‘समाज-नायिका’ बनू।।३।।

बड़ी होके- समाज सुधारक बनना है।
पिता की चाहत! मुझे- पूर्ण करना है।।४।।

सावित्रीबाई फुले जैसी बनना है मुझे।
समाज में ज्ञान-ज्योत जलाना है मुझे।।५।।

समाज में कोई शिक्षा से वंचित ना हो।
समाज में कोई लड़की अनपढ़ ना हो।।६।।

यहीं बात- समाज को बतलाना है मुझे।
समाज में “शिक्षा-क्रांति” लाना है मुझे।।७।।

हर लड़की के माता-पिता से विनती है।
लड़की को पढ़ाओं, यहीं मेरी विनती है।।८।।

मेरे पिता ने- जो संस्कार दिया है मुझे।
बड़ी होके- समाज सेवा करना है मुझे।।९।।

पिता का सपना! साकार करना है मुझे।
लक्ष्य तो एक दिन! जरूर पाना है मुझे।।१०।।
***********************************
*रचयिता: प्रभुदयाल रानीवाल*==
===*उज्जैन*{मध्यप्रदेश}*=====
***********************************

8 Likes · 14 Comments · 1111 Views
You may also like:
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
पिता
Shankar J aanjna
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
Loading...