Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2022 · 1 min read

पिता !

इस काव्य रचना को मैंने उस वक्त लिखा जब आदरणीय पापा जी की पुण्यतिथि पर उनकी बहुत याद आ रही थी , उन्ही यादों के समुंदर में गोते लगाते हुए मैं पहुँच गया उस समय में, जब मैं सत्रह वर्ष का था और अचानक मेरे पापा जी का देवलोकगमन हो गया,उस वक्त मेरी क्या मनःस्थिति थी उसका सजीव चित्रण इस काव्यरचना में मैंने किया है-

पापा -पापा पुकारता,
दिन और रात मैं।
घोर अश्रु बहाता,
सोच-सोच याद में।

तारों को निहारता,
घोर काली रात में।
डरता, सहम जाता,
सोते सोते रात में।

न पीता ,न खाता,
न हंसता ,न गाता।
तस्वीर देख देख,
खो जाता याद में।

वो मंजर जाता नहीं,
जो हुआ था रात में।
यकीं सचमुच होता नहीं,
आप नहीं हो साथ में।

आपके दर्शन थे सर्वसुलभ,
आपके अंतिम दर्शन कर।
अंतिम का मतलब जाना,
आपकी अंतिम यात्रा में।

जिस अग्नि से ,
तापता, ठंड भगाता था।
उससे खुद भागा था,
देख आपको जाते उसमें।

जिन पंचतत्वों से ,
नश्वर ये देह बना ।
उन सबका मतलब,
मैंने आज ही जाना।

जिन उत्तम संस्कारों से,
मुझे आपने आकार दिया।
आपका अंतिम संस्कार कर,
संसार का मतलब जाना मैं।

जिन केशों पर हाथ फेर,
आशीष देते थे आप।
उनका त्याग करने पर ही,
त्याग का मतलब जाना मैं।

विश्वास पूरा है मुझे,
हों आप हर पल साथ में।
‘दीप’ प्रज्वलित रहे,
सदा आपके प्रकाश में।

-जारी
©कुलदीप मिश्रा

5 Likes · 8 Comments · 683 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खो गए हैं ये धूप के साये
खो गए हैं ये धूप के साये
Shweta Soni
शिक्षक हमारे देश के
शिक्षक हमारे देश के
Bhaurao Mahant
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
Keshav kishor Kumar
मुझे नहीं पसंद किसी की जीहुजूरी
मुझे नहीं पसंद किसी की जीहुजूरी
ruby kumari
मेरी फितरत तो देख
मेरी फितरत तो देख
VINOD CHAUHAN
"तिलचट्टा"
Dr. Kishan tandon kranti
सबसे प्यारा सबसे न्यारा मेरा हिंदुस्तान
सबसे प्यारा सबसे न्यारा मेरा हिंदुस्तान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
Ram Krishan Rastogi
दाम रिश्तों के
दाम रिश्तों के
Dr fauzia Naseem shad
आइसक्रीम
आइसक्रीम
Neeraj Agarwal
" जिन्दगी क्या है "
Pushpraj Anant
कठिन समय रहता नहीं
कठिन समय रहता नहीं
Atul "Krishn"
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*बलशाली हनुमान (कुंडलिया)*
*बलशाली हनुमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
फितरत अमिट जन एक गहना🌷🌷
फितरत अमिट जन एक गहना🌷🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
3004.*पूर्णिका*
3004.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
புறப்பாடு
புறப்பாடு
Shyam Sundar Subramanian
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
पहचान ही क्या
पहचान ही क्या
Swami Ganganiya
क्रोधी सदा भूत में जीता
क्रोधी सदा भूत में जीता
महेश चन्द्र त्रिपाठी
नींद आने की
नींद आने की
हिमांशु Kulshrestha
👌चोंचलेबाजी-।
👌चोंचलेबाजी-।
*प्रणय प्रभात*
विचार, संस्कार और रस [ दो ]
विचार, संस्कार और रस [ दो ]
कवि रमेशराज
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
Dr MusafiR BaithA
Moral of all story.
Moral of all story.
Sampada
अश्रु से भरी आंँखें
अश्रु से भरी आंँखें
डॉ माधवी मिश्रा 'शुचि'
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
Jatashankar Prajapati
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
Loading...