Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

*पिता का प्यार*

हूं एक बाप, मजबूर नहीं हूं मैं
तेरी हालत से अनजान नहीं हूं मैं
रोकर अपना दर्द नहीं जताता
कमज़ोरी की पहचान नहीं हूं मैं

माना है नहीं वक़्त अच्छा तेरा
तुझे अकेले छोड़ने वाला नहीं हूं मैं
इतना यक़ीन कर तुझे हारने नहीं दूंगा
मुसीबतों से डरने वाला नहीं हूं मैं

आया है तो गुज़र भी जाएगा
इस बुरे वक्त से डरने वाला नहीं हूं मैं
तेरे साथ डटकर खड़ा हूं बेटा
इसे हराने से पहले कहीं जाने वाला भी नहीं हूं मैं

है यक़ीन, मिलकर जीत जाएंगे हम
तेरे हौसलों की जीत देखना चाहता हूं मैं
तेरे चेहरे पर मुस्कान हो हमेशा
तुझे बुलंदियों पर देखना चाहता हूं मैं

मिले तुझे जीवन की हर ख़ुशी
तेरे संग कुछ पल और जीना चाहता हूं मैं
होगा मन मेरा प्रफुल्लित देखकर
तुझे सफलता की सीढ़ियाँ चढ़ते देखना चाहता हूं मैं

तू समझता है कठोर मुझे
तुझे सक्षम बनाना चाहता हूं मैं
पार पा सके हर मुश्किल से जो
वो हुनर तुझमें देखना चाहता हूं मैं

तुझे कमज़ोर कर देंगे मेरे आंसू
तुम्हारे सामने कभी रो नहीं सकता मैं
प्यार करता हूं तुमसे मैं अपनी जान से भी ज़्यादा
लेकिन तुझसे ये कह नहीं सकता मैं।

6 Likes · 1 Comment · 2317 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
टूटी हुई कलम को
टूटी हुई कलम को
Anil chobisa
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
Manju sagar
2943.*पूर्णिका*
2943.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गिरगिट को भी अब मात
गिरगिट को भी अब मात
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मोहतरमा कुबूल है..... कुबूल है /लवकुश यादव
मोहतरमा कुबूल है..... कुबूल है /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
surenderpal vaidya
कुछ पल जिंदगी के उनसे भी जुड़े है।
कुछ पल जिंदगी के उनसे भी जुड़े है।
Taj Mohammad
मानवता
मानवता
विजय कुमार अग्रवाल
तुम देखो या ना देखो, तराजू उसका हर लेन देन पर उठता है ।
तुम देखो या ना देखो, तराजू उसका हर लेन देन पर उठता है ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मैं तो महज एक नाम हूँ
मैं तो महज एक नाम हूँ
VINOD CHAUHAN
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दो सहोदर
दो सहोदर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
पानी जैसा बनो रे मानव
पानी जैसा बनो रे मानव
Neelam Sharma
दीवार का साया
दीवार का साया
Dr. Rajeev Jain
युवा दिवस
युवा दिवस
Tushar Jagawat
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
होली आ रही है रंगों से नहीं
होली आ रही है रंगों से नहीं
Ranjeet kumar patre
गरीब
गरीब
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अहमियत
अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
चरित्र राम है
चरित्र राम है
Sanjay ' शून्य'
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
manjula chauhan
किसी की याद में आंसू बहाना भूल जाते हैं।
किसी की याद में आंसू बहाना भूल जाते हैं।
Phool gufran
♥️राधे कृष्णा ♥️
♥️राधे कृष्णा ♥️
Vandna thakur
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
If you do things the same way you've always done them, you'l
If you do things the same way you've always done them, you'l
Vipin Singh
एक सत्य
एक सत्य
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
नेताम आर सी
"साहस"
Dr. Kishan tandon kranti
मतला
मतला
Anis Shah
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
Loading...