Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

प्यार

साथ मिलना मिलाना हो,
समझना समझाना होगा।
हमेशा आस-पास रहना हो,
हरदम ख्याल रखना हो।

परवा करना या करवाना,
एक दूसरे पर अधिकार जताना।
यह सब कुछ तो होगा ही,
लेकिन वह प्यार तो नहीं होगा।

आधुनिकता की होड़ में,
हमसे क्या कुछ नहीं बदला गया।
रिश्तें -नाते, धर्म, समाज,
बाबुल का घर भी छोड़ा गया।।

पश्चिमी सभ्यता की आड़ में,
हमारी संस्कृति से तोड़ा गया।
माँग सिंदूर मलंगसूत्र बिन शादी के,
प्यार हम से जोड़ा गया।

Language: Hindi
128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जहांँ कुछ भी नहीं दिखता ..!
जहांँ कुछ भी नहीं दिखता ..!
Ranjana Verma
"बुद्धिमानी"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
Keshav kishor Kumar
लुटा दी सब दौलत, पर मुस्कान बाकी है,
लुटा दी सब दौलत, पर मुस्कान बाकी है,
Rajesh Kumar Arjun
कब होगी हल ऐसी समस्या
कब होगी हल ऐसी समस्या
gurudeenverma198
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम
प्रेम
Pratibha Pandey
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
प्रभु शरण
प्रभु शरण
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
💐प्रेम कौतुक-551💐
💐प्रेम कौतुक-551💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
युग युवा
युग युवा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
Hitanshu singh
हमारे देश में
हमारे देश में
*Author प्रणय प्रभात*
चोट ना पहुँचे अधिक,  जो वाक़ि'आ हो
चोट ना पहुँचे अधिक, जो वाक़ि'आ हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कभी कभी ज़िंदगी में जैसे आप देखना चाहते आप इंसान को वैसे हीं
कभी कभी ज़िंदगी में जैसे आप देखना चाहते आप इंसान को वैसे हीं
पूर्वार्थ
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्यार के मायने बदल गयें हैं
प्यार के मायने बदल गयें हैं
SHAMA PARVEEN
भावात्मक
भावात्मक
Surya Barman
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*श्री सुंदरलाल जी ( लघु महाकाव्य)*
*श्री सुंदरलाल जी ( लघु महाकाव्य)*
Ravi Prakash
संग दीप के .......
संग दीप के .......
sushil sarna
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
Taj Mohammad
सरयू
सरयू
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ऐसी भी होगी एक सुबह, सूरज भी हो जाएगा नतमस्तक देख कर तेरी ये
ऐसी भी होगी एक सुबह, सूरज भी हो जाएगा नतमस्तक देख कर तेरी ये
Vaishaligoel
3277.*पूर्णिका*
3277.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्या विरासत में
क्या विरासत में
Dr fauzia Naseem shad
जिसके भीतर जो होगा
जिसके भीतर जो होगा
ruby kumari
"म्हारी छोरियां छोरों से कम हैं के"
Abdul Raqueeb Nomani
Loading...