Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2023 · 1 min read

पिता एक सूरज

निकल पड़ता हर दिन, जीविका कमाने को।
रख दिल मे परिवार, चला खुशियां लाने को ।।
न थकता न ही शिकन है,
पिता है,ना पत्थर दिल है।
पसीना वो बहा आता है,
सह जाता है जमाने को ।। निकल पड़ता —
सुत और सुता सम ही जाने,
बेटी को अधिक प्रिय माने ।
देता कुंजी, जीवन समझाने,
उठते कंध पितृ,भार उठाने को।। निकल पड़ता —-
उजाला है रोशन घर है पिता,
सूरज सम ही होता है पिता ।
बच्चों का बैंक कोष है पिता,
दौड़ पड़े खुशियां बुलाने को।। निकल पड़ता —
पालक से ही भविष्य बन पाता,
बालक के जीवन का है निर्माता।
माता छांव तो पिता है छाता,
वो कर्ज में चढ़ा,जी जाने को।। निकल पड़ता —
तन मन अर्पण ,बाल स्वप्न को,
पिता का पसीना भी है, नमन को,
भूलो न नींव, चढ़े जब मंजिल को,
याद रखो तुम,उस बचपन को।। निकल पड़ता —

Language: Hindi
1 Like · 268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. शिव लहरी
View all
You may also like:
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मुहब्बत के शहर में कोई शराब लाया, कोई शबाब लाया,
मुहब्बत के शहर में कोई शराब लाया, कोई शबाब लाया,
डी. के. निवातिया
"धूप-छाँव" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
बिछोह
बिछोह
Shaily
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ऐ महबूब
ऐ महबूब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं
रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुजरा ज़माना
गुजरा ज़माना
Dr.Priya Soni Khare
ज़िम्मेदार कौन है??
ज़िम्मेदार कौन है??
Sonam Puneet Dubey
तेरे संग बिताया हर मौसम याद है मुझे
तेरे संग बिताया हर मौसम याद है मुझे
Amulyaa Ratan
सब्र
सब्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरे प्रभु राम आए हैं
मेरे प्रभु राम आए हैं
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
स्वर्ग से सुंदर अपना घर
स्वर्ग से सुंदर अपना घर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
किसी भी चीज़ की आशा में गँवा मत आज को देना
किसी भी चीज़ की आशा में गँवा मत आज को देना
आर.एस. 'प्रीतम'
* चाह भीगने की *
* चाह भीगने की *
surenderpal vaidya
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
Harsh Nagar
वो भी तो ऐसे ही है
वो भी तो ऐसे ही है
gurudeenverma198
6-
6- "अयोध्या का राम मंदिर"
Dayanand
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
Neelam Sharma
*छाया कैसा  नशा है कैसा ये जादू*
*छाया कैसा नशा है कैसा ये जादू*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
Buddha Prakash
*ऐसा हमेशा कृष्ण जैसा, मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
*ऐसा हमेशा कृष्ण जैसा, मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
Basant Bhagawan Roy
पंखों को मेरे उड़ान दे दो
पंखों को मेरे उड़ान दे दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन  में  नव  नाद ।
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन में नव नाद ।
sushil sarna
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-539💐
💐प्रेम कौतुक-539💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#प्रेरक_प्रसंग
#प्रेरक_प्रसंग
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...