Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2022 · 2 min read

पिताजी

—— पिताजी ——

सदा बात सच्ची बताते पिताजी।
सही राह हमको चलाते पिताजी।।

अगर रूठ जायें किसी बात पर हम।
गले से लगाकर मनाते पिताजी।।

हमें हर खुशी मिल सके इस लिए तो
पसीना बहुत हैं बहाते पिताजी।।

हमारी सभी गलतियों को समझते ।
पकड़ हाथ हमको सिखाते पिताजी।।

बुरी आदतों से हमेशा बचाते।
बुरी संगतों से छुड़ाते पिताजी।।

बहुत कीमती है समय ज़िन्दगी का।
सुबह शीघ्र हमको जगाते पिताजी।।

असम्भव नहीं कुछ यहाँ प्राप्त करना।
हमें श्रम की महिमा सुनाते पिताजी।।

हमें मुश्किलें झेल कर पालते हैं।
गमों को छिपा मुस्कुराते पिताजी।।

सजाते सभी स्वप्न हँसकर हमारे।
सभी दर्द दुख हैं उठाते पिताजी।।

—— विनोद शर्मा “साग़र ”
गुरुदेवनगर हरगाँव
जनपद- सीतापुर
उ प्र
सम्पर्क सूत्र — 9415572588

===================================
●रचनाकार का घोषणा पत्र●

1–इस प्रतियोगिता में मेरे द्वारा सम्मलित सभी रचनाएं मेरी स्वरचित एवं मौलिक रचनाएं है जिनको प्रकाशित करने का कॉपीराइट मेरे पास है और मैं स्वेच्छा से इन रचनाओं को साहित्यपीडिया की इस प्रतियोगिता में सम्मलित कर रहा हूँ।

2–मैं साहित्यपीडिया को अपने संग्रह/पुस्तक में इन्हे प्रकाशित करने का अधिकार प्रदान करता हूँ।

3–मैं इस प्रतियोगिता के एवं साहित्यपीडिया पर रचना प्रकाशन के सभी नियम एवं शर्तों से पूरी तरह सहमत हूँ। अगर मेरे द्वारा किसी नियम का उल्लंघन होता है, तो उसकी पूरी जिम्मेदारी सिर्फ मेरी होगी।

4–साहित्यपीडिया के काव्य संग्रह में अपनी इस रचना के प्रकाशन के लिए मैं साहित्यपीडिया से किसी भी तरह के मानदेय या भेंट की पुस्तक प्रति का अधिकारी नहीं हूँ और न ही मैं इस प्रकार का कोई दावा करूँगा।

5–अगर मेरे द्वारा दी गयी कोई भी सूचना ग़लत निकलती है या मेरी रचना किसी के कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो इसकी पूरी ज़िम्मेदारी सिर्फ और सिर्फ मेरी है, साहित्यपीडिया का इसमें कोई दायित्व नहीं होगा।

6–मैं समझता हूँ कि अगर मेरी रचनाएं साहित्यपीडिया के नियमों के अनुसार नहीं हुई तो उन्हें इस प्रतियोगिता एवं काव्य संग्रह में शामिल नहीं किया जायेगा; रचनाओं के प्रकाशन को लेकर साहित्यपीडिया टीम का निर्णय ही अंतिम होगा और मुझे वह निर्णय स्वीकार होगा।

—– विनोद शर्मा “साग़र”
गुरुदेवनगर हरगाँव
जनपद सीतापुर
उ प्र

7 Likes · 2 Comments · 646 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अभाव और कमियाँ ही हमें जिन्दा रखती हैं।
अभाव और कमियाँ ही हमें जिन्दा रखती हैं।
पूर्वार्थ
इन रास्तों को मंजूर था ये सफर मेरा
इन रास्तों को मंजूर था ये सफर मेरा
'अशांत' शेखर
इरादा हो अगर पक्का सितारे तोड़ लाएँ हम
इरादा हो अगर पक्का सितारे तोड़ लाएँ हम
आर.एस. 'प्रीतम'
सतशिक्षा रूपी धनवंतरी फल ग्रहण करने से
सतशिक्षा रूपी धनवंतरी फल ग्रहण करने से
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
Rj Anand Prajapati
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
कृष्णकांत गुर्जर
** दूर कैसे रहेंगे **
** दूर कैसे रहेंगे **
Chunnu Lal Gupta
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
Surinder blackpen
विश्व कप-2023 फाइनल
विश्व कप-2023 फाइनल
दुष्यन्त 'बाबा'
Pain changes people
Pain changes people
Vandana maurya
अपनी तस्वीर
अपनी तस्वीर
Dr fauzia Naseem shad
सेहत या स्वाद
सेहत या स्वाद
विजय कुमार अग्रवाल
तेरे दुःख की गहराई,
तेरे दुःख की गहराई,
Buddha Prakash
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मन में संदिग्ध हो
मन में संदिग्ध हो
Rituraj shivem verma
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
Manju sagar
राह कठिन है राम महल की,
राह कठिन है राम महल की,
Satish Srijan
अद्वितीय संवाद
अद्वितीय संवाद
Monika Verma
बेरोज़गारी
बेरोज़गारी
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-373💐
💐प्रेम कौतुक-373💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हाँ, मेरा मकसद कुछ और है
हाँ, मेरा मकसद कुछ और है
gurudeenverma198
जीवन के पल दो चार
जीवन के पल दो चार
Bodhisatva kastooriya
"भावना" तो मैंने भी
*Author प्रणय प्रभात*
जाते-जाते भी नहीं, जाता फागुन माह
जाते-जाते भी नहीं, जाता फागुन माह
Ravi Prakash
2379.पूर्णिका
2379.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अंधेरी रात में भी एक तारा टिमटिमाया है
अंधेरी रात में भी एक तारा टिमटिमाया है
VINOD CHAUHAN
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
सपना
सपना
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...