Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

पिताजी

—— *पिताजी* ——

सदा बात सच्ची बताते पिताजी।
सही राह हमको चलाते पिताजी।।

अगर रूठ जायें किसी बात पर हम।
गले से लगाकर मनाते पिताजी।।

हमें हर खुशी मिल सके इस लिए तो
पसीना बहुत हैं बहाते पिताजी।।

हमारी सभी गलतियों को समझते ।
पकड़ हाथ हमको सिखाते पिताजी।।

बुरी आदतों से हमेशा बचाते।
बुरी संगतों से छुड़ाते पिताजी।।

बहुत कीमती है समय ज़िन्दगी का।
सुबह शीघ्र हमको जगाते पिताजी।।

असम्भव नहीं कुछ यहाँ प्राप्त करना।
हमें श्रम की महिमा सुनाते पिताजी।।

हमें मुश्किलें झेल कर पालते हैं।
गमों को छिपा मुस्कुराते पिताजी।।

सजाते सभी स्वप्न हँसकर हमारे।
सभी दर्द दुख हैं उठाते पिताजी।।

—— विनोद शर्मा “साग़र ”
गुरुदेवनगर हरगाँव
जनपद- सीतापुर
उ प्र
सम्पर्क सूत्र — 9415572588

===================================
●रचनाकार का घोषणा पत्र●

1–इस प्रतियोगिता में मेरे द्वारा सम्मलित सभी रचनाएं मेरी स्वरचित एवं मौलिक रचनाएं है जिनको प्रकाशित करने का कॉपीराइट मेरे पास है और मैं स्वेच्छा से इन रचनाओं को साहित्यपीडिया की इस प्रतियोगिता में सम्मलित कर रहा हूँ।

2–मैं साहित्यपीडिया को अपने संग्रह/पुस्तक में इन्हे प्रकाशित करने का अधिकार प्रदान करता हूँ।

3–मैं इस प्रतियोगिता के एवं साहित्यपीडिया पर रचना प्रकाशन के सभी नियम एवं शर्तों से पूरी तरह सहमत हूँ। अगर मेरे द्वारा किसी नियम का उल्लंघन होता है, तो उसकी पूरी जिम्मेदारी सिर्फ मेरी होगी।

4–साहित्यपीडिया के काव्य संग्रह में अपनी इस रचना के प्रकाशन के लिए मैं साहित्यपीडिया से किसी भी तरह के मानदेय या भेंट की पुस्तक प्रति का अधिकारी नहीं हूँ और न ही मैं इस प्रकार का कोई दावा करूँगा।

5–अगर मेरे द्वारा दी गयी कोई भी सूचना ग़लत निकलती है या मेरी रचना किसी के कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो इसकी पूरी ज़िम्मेदारी सिर्फ और सिर्फ मेरी है, साहित्यपीडिया का इसमें कोई दायित्व नहीं होगा।

6–मैं समझता हूँ कि अगर मेरी रचनाएं साहित्यपीडिया के नियमों के अनुसार नहीं हुई तो उन्हें इस प्रतियोगिता एवं काव्य संग्रह में शामिल नहीं किया जायेगा; रचनाओं के प्रकाशन को लेकर साहित्यपीडिया टीम का निर्णय ही अंतिम होगा और मुझे वह निर्णय स्वीकार होगा।

—– विनोद शर्मा “साग़र”
गुरुदेवनगर हरगाँव
जनपद सीतापुर
उ प्र

6 Likes · 2 Comments · 64 Views
You may also like:
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
" बिल्ली "
Dr Meenu Poonia
✍️एक फ़रियाद..✍️
"अशांत" शेखर
प्रकृति के कण कण में ईश्वर बसता है।
Taj Mohammad
हिरण
Buddha Prakash
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मेरी मोहब्बत की हर एक फिक्र में।
Taj Mohammad
हम हर गम छुपा लेते हैं।
Taj Mohammad
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
अशोक विश्नोई एक विलक्षण साधक (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
मंगलसूत्र
संदीप सागर (चिराग)
तेरा रूतबा है बड़ा।
Taj Mohammad
किताब।
Amber Srivastava
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
हमको पास बुलाती है।
Taj Mohammad
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
* साहित्य और सृजनकारिता *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रिश्तों की अहमियत को न करें नज़र अंदाज़
Dr fauzia Naseem shad
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️जिंदगी का फ़लसफ़ा✍️
"अशांत" शेखर
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
प्रश्न! प्रश्न लिए खड़ा है!
Anamika Singh
मूक हुई स्वर कोकिला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अजीब मनोस्थिति "
Dr Meenu Poonia
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
गुुल हो गुलशन हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️जिंदगी की सुबह✍️
"अशांत" शेखर
Loading...