Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 1 min read

पिछली सदी का शख्स

दिल से निभाया मैंने

पिछली सदी का शख्स मैं
शराफत में जिया हूँ।
दिल से निभाया मैंने
वायदा जो किया हूँ।

सबको गले लगाते,
वाजिब हर बात मानी।
फितरत न कभी सीखा,
सादी थी जिंदगानी।
हो खास या मामूली,
सब साथ लिया हूँ।
दिल से निभाया मैंने
वायदा जो किया हूँ।

लोगों में थी मुहब्बत,
मिला करते सुबह शाम।
मेरे दौर में तो होते,
जुबाँ से सारे काम।
गैरों के खातिर भी मैं,
कई गम को पिया हूँ।
दिल से निभाया मैंने
वायदा जो किया हूँ।

घिर गए अब तो सारे,
हर जगह है मशीन।
न गीत ग़ज़ल महफ़िल
न संग कोई हसीन।
लम्हों में लगा पेंवन्द
किनारों को सिया हूँ।
दिल से निभाया मैंने
वायदा जो किया हूँ।

है दौर आज का जो,
अदना को नहीं भाता।
अपने बने पराये,
कोई पास नहीं आता।
वो भी बदलते तेवर,
जिन्हें जान दिया हूँ।
दिल से निभाया मैंने
वायदा जो किया हूँ।

– सतीश सृजन

Language: Hindi
1 Like · 202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"साँसों के मांझी"
Dr. Kishan tandon kranti
*जानो होता है टिकट, राजनीति का सार (कुंडलिया)*
*जानो होता है टिकट, राजनीति का सार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
AJAY AMITABH SUMAN
गुज़रा है वक्त लेकिन
गुज़रा है वक्त लेकिन
Dr fauzia Naseem shad
#सामयिक_व्यंग्य...
#सामयिक_व्यंग्य...
*प्रणय प्रभात*
मानवीय संवेदना बनी रहे
मानवीय संवेदना बनी रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बंद करो अब दिवसीय काम।
बंद करो अब दिवसीय काम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ଷଡ ରିପୁ
ଷଡ ରିପୁ
Bidyadhar Mantry
दोहा मुक्तक -*
दोहा मुक्तक -*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रसों में रस बनारस है !
रसों में रस बनारस है !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
जुबां
जुबां
Sanjay ' शून्य'
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
!! ईश्वर का धन्यवाद करो !!
!! ईश्वर का धन्यवाद करो !!
Akash Yadav
आओ वृक्ष लगाओ जी..
आओ वृक्ष लगाओ जी..
Seema Garg
विषधर
विषधर
Rajesh
हँस लो! आज  दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
गुमनाम 'बाबा'
चलते चलते
चलते चलते
ruby kumari
Unveiling the Unseen: Paranormal Activities and Scientific Investigations
Unveiling the Unseen: Paranormal Activities and Scientific Investigations
Shyam Sundar Subramanian
"ना चराग़ मयस्सर है ना फलक पे सितारे"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
Subhash Singhai
ज़िन्दगी नाम है चलते रहने का।
ज़िन्दगी नाम है चलते रहने का।
Taj Mohammad
Success rule
Success rule
Naresh Kumar Jangir
जीवन में सफलता छोटी हो या बड़ी
जीवन में सफलता छोटी हो या बड़ी
Dr.Rashmi Mishra
I'm a basket full of secrets,
I'm a basket full of secrets,
Chahat
3146.*पूर्णिका*
3146.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
डा. तुलसीराम और उनकी आत्मकथाओं को जैसा मैंने समझा / © डा. मुसाफ़िर बैठा
डा. तुलसीराम और उनकी आत्मकथाओं को जैसा मैंने समझा / © डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
“सुरक्षा में चूक” (संस्मरण-फौजी दर्पण)
“सुरक्षा में चूक” (संस्मरण-फौजी दर्पण)
DrLakshman Jha Parimal
अपनों को दे फायदा ,
अपनों को दे फायदा ,
sushil sarna
जिंदगी को बोझ मान
जिंदगी को बोझ मान
भरत कुमार सोलंकी
Loading...