Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 14, 2016 · 1 min read

पिंजरे की मैना

पिंजरे की मैना ये
किसे सुनाये दास्ताँ दिल की
कितनी खुश थी
पेड़ों पे वो
दिन भर चहकती रहती थी
इस डाल से उस डाल पर
इस टहनी से उस टहनी
जहाँ चाहे उड़ जाती थी
कच्चे -पक्के कैसे भी फल
तोड़ -तोड़ खा लेती थी
कितना अच्छा जीवन था वो
आज़ादी से भरा हुआ
चलती थी मनमर्ज़ियाँ
थी साथ कितनी सखियाँ-सहेलियाँ
पर अब इस सोने के पिंजरे में
घुटता है दम
नहीं चाहिए ये स्वादिष्ट व्यंजन
बस, कोई लौटा दे मुझको
फिर से मेरी आज़ादी ।

1 Like · 900 Views
You may also like:
कैसी है ये पीर पराई
VINOD KUMAR CHAUHAN
आज अब्र भी कबसे बरस रहा है।
Taj Mohammad
✍️दो और दो पाँच✍️
"अशांत" शेखर
रंगमंच है ये जगत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन उर्जा ईश्वर का वरदान है।
Anamika Singh
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
नादानियाँ
Anamika Singh
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा...
Ravi Prakash
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
बनकर कोयल काग
Jatashankar Prajapati
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
वसंत का संदेश
Anamika Singh
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट...
Kuldeep mishra (KD)
मुकरियां __नींद
Manu Vashistha
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
चेहरे पर चेहरे लगा लो।
Taj Mohammad
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ओ जानें ज़ाना !
D.k Math
सही दिशा में
Ratan Kirtaniya
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
Loading...