Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jun 2023 · 1 min read

पावन पटल

प्रदत विषय- पावन पटल हमारा, इसकी छटा निराली।

मुक्तक छंद

1222,1222,1222,1222

पटल पावन हमारा है ,छटा इसकी निराली है।
किताबी लेख लिखते हैं ,पकी फलदार डाली है।
रसों की धार बहती है ,कलम से गीत रचते हैं।
कलम कागज सजाती है ,लिखाई जान डाली है।

रची रचना दिखाते हैं, बधाई खूब पाते हैं।
रचे जो लेख भावों में ,वही सुनते सुनाते हैं।
बहे मुक्तक गजल धारा ,समाए गीत छंदों में।
कलम में जो समाए है, वही रसपान पाते हैं।

पटल पावन हमारा है, सभी से नित मिलाता है।
कभी देखे नहीं है जो, दरस उनके कराता है।
पराए भी नहीं है जो ,कभी मिलते नहीं है वो।
अनूठे प्रेम दर्पण में, यही सब को मिलाता है।

ललिता कश्यप जिला बिलासपुर हिमाचल प्रदेश

Language: Hindi
178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सनम  ऐसे ना मुझको  बुलाया करो।
सनम ऐसे ना मुझको बुलाया करो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
राम का आधुनिक वनवास
राम का आधुनिक वनवास
Harinarayan Tanha
फूक मार कर आग जलाते है,
फूक मार कर आग जलाते है,
Buddha Prakash
अच्छा रहता
अच्छा रहता
Pratibha Pandey
ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स
ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स
Rj Anand Prajapati
दाता तुमने जो दिया ,कोटि - कोटि उपकार
दाता तुमने जो दिया ,कोटि - कोटि उपकार
Ravi Prakash
गेसू सारे आबनूसी,
गेसू सारे आबनूसी,
Satish Srijan
पुस्तक विमर्श (समीक्षा )-
पुस्तक विमर्श (समीक्षा )- " साये में धूप "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
दीप माटी का
दीप माटी का
Dr. Meenakshi Sharma
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
Shutisha Rajput
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सहन करो या दफन करो
सहन करो या दफन करो
goutam shaw
Maa pe likhne wale bhi hai
Maa pe likhne wale bhi hai
Ankita Patel
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Dr Parveen Thakur
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
निर्झरिणी है काव्य की, झर झर बहती जाय
निर्झरिणी है काव्य की, झर झर बहती जाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
ईर्ष्या
ईर्ष्या
Dr. Kishan tandon kranti
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
बचपन
बचपन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जिन्दगी में
जिन्दगी में
लक्ष्मी सिंह
नए मुहावरे का चाँद
नए मुहावरे का चाँद
Dr MusafiR BaithA
23/127.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/127.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हे राघव अभिनन्दन है
हे राघव अभिनन्दन है
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
आऊँगा कैसे मैं द्वार तुम्हारे
आऊँगा कैसे मैं द्वार तुम्हारे
gurudeenverma198
वैलेंटाइन डे पर कविता
वैलेंटाइन डे पर कविता
Shekhar Chandra Mitra
वक्त की जेबों को टटोलकर,
वक्त की जेबों को टटोलकर,
अनिल कुमार
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...