Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2019 · 1 min read

पावनता

पावनता

नहर का नीला पानी
लगा मुझे चिरयात्री
आया पहाड़ों से
चलता रहा है निर्बाध
थकान भी नहीं है
ऊबा भी नहीं सफर से
जाना भी है बहुत दूर
चला जा रहा है चुपचाप
गतिशीलता ने
रखी है महफूज
इसकी पावनता
अगर ये
कहीं ठहर जाता
किसी तालाब में
तो खो देता
अपनी पावनता

-विनोद सिल्ला©

Language: Hindi
369 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
We meet some people at a stage of life when we're lost or in
We meet some people at a stage of life when we're lost or in
पूर्वार्थ
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Sidhartha Mishra
बच्चों की ख्वाहिशों का गला घोंट के कहा,,
बच्चों की ख्वाहिशों का गला घोंट के कहा,,
Shweta Soni
"हमदर्द आँखों सा"
Dr. Kishan tandon kranti
दुनियाँ की भीड़ में।
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
वक्त को कौन बांध सका है
वक्त को कौन बांध सका है
Surinder blackpen
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
Indu Singh
* इस धरा को *
* इस धरा को *
surenderpal vaidya
"बोलती आँखें"
पंकज कुमार कर्ण
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
जब दादा जी घर आते थे
जब दादा जी घर आते थे
VINOD CHAUHAN
नजराना
नजराना
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*युद्ध लड़ सको तो रण में, कुछ शौर्य दिखाने आ जाना (मुक्तक)*
*युद्ध लड़ सको तो रण में, कुछ शौर्य दिखाने आ जाना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
राष्ट्र हित में मतदान
राष्ट्र हित में मतदान
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
shabina. Naaz
■ आज का शेर-
■ आज का शेर-
*प्रणय प्रभात*
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
gurudeenverma198
विगुल क्रांति का फूँककर, टूटे बनकर गाज़ ।
विगुल क्रांति का फूँककर, टूटे बनकर गाज़ ।
जगदीश शर्मा सहज
बीता समय अतीत अब,
बीता समय अतीत अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
गुरूता बने महान ......!
गुरूता बने महान ......!
हरवंश हृदय
ना जाने
ना जाने
SHAMA PARVEEN
करनी होगी जंग
करनी होगी जंग
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
Awneesh kumar
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
कवि दीपक बवेजा
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
"Radiance of Purity"
Manisha Manjari
मेरी नाव
मेरी नाव
Juhi Grover
वैसे अपने अपने विचार है
वैसे अपने अपने विचार है
शेखर सिंह
Loading...