Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Sep 2016 · 1 min read

पाल रहे हैं

मस्जिद से मयकशों को जो निकाल रहे हैं
महफ़िल में वो ख़ुद ही शराब ढाल रहे हैं

मुंसिफ़ का ओहदा भी वही चाहने लगे
जो ज़ुर्म की ज़िंदा यहाँ मिसाल रहे हैं

जो खेल करते आए सियासत के उम्र भर
मजहब की बागडोर क्यूँ संभाल रहे हैं

सबको पता है एक दिन डंसेगा वो ज़रूर
वो आज आसतीं मे जिसे पाल रहे हैं

वो हमको भुलाकर के जी रहे हैं मज़े में
हम याद में रो-रो के दिन निकाल रहे हैं

सच बोलने को किससे कहा जाए अब ‘चिराग़’
सब झूठ के सहारे पेट पाल रहे हैं

‘चिराग़ बैसवारी’

1 Like · 492 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हस्ती
हस्ती
kumar Deepak "Mani"
वसंत - फाग का राग है
वसंत - फाग का राग है
Atul "Krishn"
जिंदगी मुझसे हिसाब मांगती है ,
जिंदगी मुझसे हिसाब मांगती है ,
Shyam Sundar Subramanian
*हिन्दी बिषय- घटना*
*हिन्दी बिषय- घटना*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
सत्य कुमार प्रेमी
हां मैं दोगला...!
हां मैं दोगला...!
भवेश
💐अज्ञात के प्रति-84💐
💐अज्ञात के प्रति-84💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ससुराल गेंदा फूल
ससुराल गेंदा फूल
Seema gupta,Alwar
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
आज की बेटियां
आज की बेटियां
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
इतनी फुर्सत है कहां, जो करते हम जाप
इतनी फुर्सत है कहां, जो करते हम जाप
Suryakant Dwivedi
"विचारणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
उदर क्षुधा
उदर क्षुधा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
दर्द
दर्द
Satish Srijan
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
" मँगलमय नव-वर्ष 2023 "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बेटियां ?
बेटियां ?
Dr.Pratibha Prakash
फुटपाथ की ठंड
फुटपाथ की ठंड
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
■ नहीं जानते थे
■ नहीं जानते थे
*Author प्रणय प्रभात*
कामनाओं का चक्र व्यूह
कामनाओं का चक्र व्यूह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
संजय कुमार संजू
नारी शक्ति
नारी शक्ति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
Rohit yadav
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
ruby kumari
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
Krishna Kumar ANANT
"हर रास्ते में फूलों से ना होगा सामना
कवि दीपक बवेजा
*मतदान*
*मतदान*
Shashi kala vyas
2396.पूर्णिका
2396.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*गाता गाथा राम की, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
*गाता गाथा राम की, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गाँव की याद
गाँव की याद
Rajdeep Singh Inda
Loading...