Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 15, 2016 · 1 min read

पाल रहे हैं

मस्जिद से मयकशों को जो निकाल रहे हैं
महफ़िल में वो ख़ुद ही शराब ढाल रहे हैं

मुंसिफ़ का ओहदा भी वही चाहने लगे
जो ज़ुर्म की ज़िंदा यहाँ मिसाल रहे हैं

जो खेल करते आए सियासत के उम्र भर
मजहब की बागडोर क्यूँ संभाल रहे हैं

सबको पता है एक दिन डंसेगा वो ज़रूर
वो आज आसतीं मे जिसे पाल रहे हैं

वो हमको भुलाकर के जी रहे हैं मज़े में
हम याद में रो-रो के दिन निकाल रहे हैं

सच बोलने को किससे कहा जाए अब ‘चिराग़’
सब झूठ के सहारे पेट पाल रहे हैं

‘चिराग़ बैसवारी’

146 Views
You may also like:
पिता
Satpallm1978 Chauhan
दर्द भरे गीत
Dr.sima
नजर तो मुझको यही आ रहा है
gurudeenverma198
तुम चली गई
Dr.Priya Soni Khare
ज़ालिम दुनियां में।
Taj Mohammad
घुतिवान- ए- मनुज
AMRESH KUMAR VERMA
मनुआँ काला, भैंस-सा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
परशुराम कर्ण संवाद
Utsav Kumar Aarya
परिवार
Dr Meenu Poonia
फ़ासला
मनोज कर्ण
बदरा कोहनाइल हवे
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
तेरी याद में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अभिलाषा
Anamika Singh
लाल टोपी
मनोज कर्ण
आ तुझको तुझ से चुरा लू
Ram Krishan Rastogi
ममता की फुलवारी माँ हमारी
Dr. Alpa H. Amin
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
परिंदों से कह दो।
Taj Mohammad
✍️दम-भर ✍️
"अशांत" शेखर
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
*प्रखर राष्ट्रवादी श्री रामरूप गुप्त*
Ravi Prakash
जोशवान मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सांसें कम पड़ गई
Shriyansh Gupta
Loading...