Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Sep 2016 · 1 min read

पाल रहे हैं

मस्जिद से मयकशों को जो निकाल रहे हैं
महफ़िल में वो ख़ुद ही शराब ढाल रहे हैं

मुंसिफ़ का ओहदा भी वही चाहने लगे
जो ज़ुर्म की ज़िंदा यहाँ मिसाल रहे हैं

जो खेल करते आए सियासत के उम्र भर
मजहब की बागडोर क्यूँ संभाल रहे हैं

सबको पता है एक दिन डंसेगा वो ज़रूर
वो आज आसतीं मे जिसे पाल रहे हैं

वो हमको भुलाकर के जी रहे हैं मज़े में
हम याद में रो-रो के दिन निकाल रहे हैं

सच बोलने को किससे कहा जाए अब ‘चिराग़’
सब झूठ के सहारे पेट पाल रहे हैं

‘चिराग़ बैसवारी’

325 Views
You may also like:
मैं अश्क हूं।
Taj Mohammad
किस्मत एक ताना...
Sapna K S
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
कहाँ मिलेंगे तेरे क़दमों के निशाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
करुणा के बादल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जहां पर रब नही है
अनूप अंबर
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
@@कामना च आवश्यकता च विभेदः@@
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
और मैं तुमसे प्यार करता रहा जबकि
gurudeenverma198
" कोरोना "
Dr Meenu Poonia
लौह पुरुष -सरदार कथा काव्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पिता
Santoshi devi
इश्क़ भी इंकलाबी हो
Shekhar Chandra Mitra
तेरी कातिल नजरो से
Ram Krishan Rastogi
ठण्डी दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
'तुम्हारे बिना'
Rashmi Sanjay
मुझे चांद का इंतज़ार नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
विश्वेश्वर महादेव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️✍️गुमराह✍️✍️
'अशांत' शेखर
पिता
Rajiv Vishal
सुखला से सावन के आहत किसान बा।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
रुकना हमारा कर्म नहीं
AMRESH KUMAR VERMA
करवाचौथ (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बेटियाँ
Shailendra Aseem
#मजबूरिया
Dalveer Singh
Loading...