Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

*पार्क (बाल कविता)*

पार्क (बाल कविता)
______________________
घर के पास पार्क अति प्यारा
हरा-भरा इस से जग सारा

हरी घास पर दौड़ लगाते
नेत्र-ज्योति यों रोज बढ़ाते

पार्क हमारा असली धन है
आकर यहॉं हुआ खुश मन है
_______________________
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

850 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
दीदार
दीदार
Vandna thakur
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
कवि दीपक बवेजा
* प्रीति का भाव *
* प्रीति का भाव *
surenderpal vaidya
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रंग पंचमी
रंग पंचमी
जगदीश लववंशी
मोबाइल के भक्त
मोबाइल के भक्त
Satish Srijan
मन चाहे कुछ कहना....!
मन चाहे कुछ कहना....!
Kanchan Khanna
परोपकार
परोपकार
ओंकार मिश्र
"सच्ची जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
मौनता  विभेद में ही अक्सर पायी जाती है , अपनों में बोलने से
मौनता विभेद में ही अक्सर पायी जाती है , अपनों में बोलने से
DrLakshman Jha Parimal
जिस्म का खून करे जो उस को तो क़ातिल कहते है
जिस्म का खून करे जो उस को तो क़ातिल कहते है
shabina. Naaz
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
gurudeenverma198
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
24, *ईक्सवी- सदी*
24, *ईक्सवी- सदी*
Dr Shweta sood
12- अब घर आ जा लल्ला
12- अब घर आ जा लल्ला
Ajay Kumar Vimal
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-158के चयनित दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-158के चयनित दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2820. *पूर्णिका*
2820. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो उनसे पूछा कि हम पर यक़ीं नहीं रखते
जो उनसे पूछा कि हम पर यक़ीं नहीं रखते
Anis Shah
सियाचिनी सैनिक
सियाचिनी सैनिक
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
प्यार का मौसम
प्यार का मौसम
Shekhar Chandra Mitra
#लघुकथा / क़ामयाब पहल
#लघुकथा / क़ामयाब पहल
*Author प्रणय प्रभात*
निज धृत
निज धृत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
Ankita Patel
" जिन्दगी के पल"
Yogendra Chaturwedi
जिंदगी में किसी से अपनी तुलना मत करो
जिंदगी में किसी से अपनी तुलना मत करो
Swati
"तेरे लिए.." ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
.......... मैं चुप हूं......
.......... मैं चुप हूं......
Naushaba Suriya
*तिरंगा (बाल कविता)*
*तिरंगा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Loading...