Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 1 min read

*पापा (बाल कविता)*

पापा (बाल कविता)
—————————–
( 1 )
थके हुए घर आते पापा
फिर भी हैं मुस्काते पापा
( 2 )
खेल खिलौने रबड़ी लड्डू
रोजाना घर लाते पापा
( 3 )
सबके साथ प्यार से रहना
हमको यह समझाते पापा
( 4 )
भरना फीस बहुत भारी है
फिर भी हमें पढ़ाते पापा
( 5 )
बूढ़े दादाजी के अक्सर
घंटों पैर दबाते पापा
———–
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर(उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 9997615451

817 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
भौतिकवादी
भौतिकवादी
लक्ष्मी सिंह
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
Dr. Man Mohan Krishna
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
एक मुट्ठी राख
एक मुट्ठी राख
Shekhar Chandra Mitra
बदलता साल
बदलता साल
डॉ. शिव लहरी
अपनी समस्या का
अपनी समस्या का
Dr fauzia Naseem shad
कई जीत बाकी है कई हार बाकी है, अभी तो जिंदगी का सार बाकी है।
कई जीत बाकी है कई हार बाकी है, अभी तो जिंदगी का सार बाकी है।
Vipin Singh
Yesterday ? Night
Yesterday ? Night
Otteri Selvakumar
जो राम हमारे कण कण में थे उन पर बड़ा सवाल किया।
जो राम हमारे कण कण में थे उन पर बड़ा सवाल किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
■ विडंबना-
■ विडंबना-
*Author प्रणय प्रभात*
उठ वक़्त के कपाल पर,
उठ वक़्त के कपाल पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बुध्द गीत
बुध्द गीत
Buddha Prakash
तो शीला प्यार का मिल जाता
तो शीला प्यार का मिल जाता
Basant Bhagawan Roy
प्रार्थना
प्रार्थना
Dr.Pratibha Prakash
आज बाजार बन्द है
आज बाजार बन्द है
gurudeenverma198
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
Kishore Nigam
एक एक ख्वाहिशें आँख से
एक एक ख्वाहिशें आँख से
Namrata Sona
23/111.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/111.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दुआ
दुआ
Dr Parveen Thakur
💐प्रेम कौतुक-261💐
💐प्रेम कौतुक-261💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
International Chess Day
International Chess Day
Tushar Jagawat
बहारों कि बरखा
बहारों कि बरखा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*सरस्वती जी दीजिए, छंद और रस-ज्ञान (आठ दोहे)*
*सरस्वती जी दीजिए, छंद और रस-ज्ञान (आठ दोहे)*
Ravi Prakash
बहू और बेटी
बहू और बेटी
Mukesh Kumar Sonkar
नश्वर है मनुज फिर
नश्वर है मनुज फिर
Abhishek Kumar
Loading...