Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 1, 2019 · 1 min read

पापड

जनवरी का महीना था। कडाके की ठंड। रात के समय सुखिया फुटपाथ पर बैठा जाग रहा था। नींद आती भी तो कैसे। ठंड ने उसका जीना मुहाल कर रखा था। ओढने के लिए एक ही कःबल था जो पर्याप्त गरमी देने में असमर्थ था। किसी तरह रात कटी। सूरज निकला। उसका चेहरा खिल उठा। धूप में अपने को तापते हुए वह प्रकृति को धन्यवाद दे रहा था। तभी कोने में चाय की रेहडी वाले ने पूछा-क्या आज काम पर नही गये सुखिया।’ “काहे का काम बाबू जी काम पर सुबह वो जायेगा जो रात भर गर्म रजाई में सोता हो। गरीब के लिए सरदी की रातें बहुत कष्टदायी होती हैं। ” जवाब दिया उसने।
“क्या बात रात को सोये नही। ”
वह बोला,” ठंड की वजह से रात को नींद नहीं आती। दिन में धूप में सोना पडता है। कुछ दिन तो सरदी के ऐसे ही निकालने पडेंगे। जान है तो जहान है। दोपहर के बाद पेट के लिए कुछ कमाने के लिए एक अंगीठी जलाकर पापड भेनकर बेचता हूँ। जिंदा रहने और पेट भरने के लिए बहुत पापड बेलने पडते है बाबू जी”
चाय वाला बडी हैरानी से सुखिया के चेहरे पर छलके दर्द को साफ देख रहा था।

अशोक छाबडा

1 Like · 287 Views
You may also like:
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
ज़िन्दगी की धूप...
Dr.Alpa Amin
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खमोशी है जिसका गहना
शेख़ जाफ़र खान
साथ समय के चलना सीखो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
शेखर जी आपके लिए कुछ अल्फाज़।
Taj Mohammad
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
*दो बूढ़े माँ बाप (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
✍️मैं एक मजदुर हूँ✍️
"अशांत" शेखर
【8】 *"* आई देखो आई रेल *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अब जो बिछड़े तो
Dr fauzia Naseem shad
देश के हालात
Shekhar Chandra Mitra
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
श्रृंगार
Alok Saxena
💐नाशवान् इच्छा एव पापस्य कारणं अविनाशी न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
ज़िन्दा रहना है तो जीवन के लिए लड़
Shivkumar Bilagrami
✍️चाँद में रोटी✍️
"अशांत" शेखर
मां जैसा कोई ना।
Taj Mohammad
हमारे शुभेक्षु पिता
Aditya Prakash
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दुआ
Alok Saxena
कड़वा है पर सत्य से भरा है।
Manisha Manjari
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
हम बस देखते रहे।
Taj Mohammad
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
"कारगिल विजय दिवस"
Lohit Tamta
You are my life.
Taj Mohammad
Loading...