Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2019 · 1 min read

पापड

जनवरी का महीना था। कडाके की ठंड। रात के समय सुखिया फुटपाथ पर बैठा जाग रहा था। नींद आती भी तो कैसे। ठंड ने उसका जीना मुहाल कर रखा था। ओढने के लिए एक ही कःबल था जो पर्याप्त गरमी देने में असमर्थ था। किसी तरह रात कटी। सूरज निकला। उसका चेहरा खिल उठा। धूप में अपने को तापते हुए वह प्रकृति को धन्यवाद दे रहा था। तभी कोने में चाय की रेहडी वाले ने पूछा-क्या आज काम पर नही गये सुखिया।’ “काहे का काम बाबू जी काम पर सुबह वो जायेगा जो रात भर गर्म रजाई में सोता हो। गरीब के लिए सरदी की रातें बहुत कष्टदायी होती हैं। ” जवाब दिया उसने।
“क्या बात रात को सोये नही। ”
वह बोला,” ठंड की वजह से रात को नींद नहीं आती। दिन में धूप में सोना पडता है। कुछ दिन तो सरदी के ऐसे ही निकालने पडेंगे। जान है तो जहान है। दोपहर के बाद पेट के लिए कुछ कमाने के लिए एक अंगीठी जलाकर पापड भेनकर बेचता हूँ। जिंदा रहने और पेट भरने के लिए बहुत पापड बेलने पडते है बाबू जी”
चाय वाला बडी हैरानी से सुखिया के चेहरे पर छलके दर्द को साफ देख रहा था।

अशोक छाबडा

Language: Hindi
1 Like · 623 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
Satish Srijan
वाक़िफ नहीं है कोई
वाक़िफ नहीं है कोई
Dr fauzia Naseem shad
अनादि
अनादि
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
" माँ का आँचल "
DESH RAJ
*होली*
*होली*
Shashi kala vyas
दुआ को असर चाहिए।
दुआ को असर चाहिए।
Taj Mohammad
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
Radha jha
माँ की गोद में
माँ की गोद में
Surya Barman
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
shabina. Naaz
मन वैरागी हो गया
मन वैरागी हो गया
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्यारा भारत देश है
प्यारा भारत देश है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
सुनो रे सुनो तुम यह मतदाताओं
सुनो रे सुनो तुम यह मतदाताओं
gurudeenverma198
.......,,
.......,,
शेखर सिंह
राख देख  शमशान  में, मनवा  करे सवाल।
राख देख शमशान में, मनवा करे सवाल।
दुष्यन्त 'बाबा'
हाँ मैं व्यस्त हूँ
हाँ मैं व्यस्त हूँ
Dinesh Gupta
रामपुर में थियोसॉफिकल सोसायटी के पर्याय श्री हरिओम अग्रवाल जी
रामपुर में थियोसॉफिकल सोसायटी के पर्याय श्री हरिओम अग्रवाल जी
Ravi Prakash
पिता, इन्टरनेट युग में
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
कोई कैसे अपने ख्वाईशो को दफनाता
कोई कैसे अपने ख्वाईशो को दफनाता
'अशांत' शेखर
Save water ! Without water !
Save water ! Without water !
Buddha Prakash
उसने मुझको बुलाया तो जाना पड़ा।
उसने मुझको बुलाया तो जाना पड़ा।
सत्य कुमार प्रेमी
■ तजुर्बे की बात।
■ तजुर्बे की बात।
*Author प्रणय प्रभात*
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
Vishal babu (vishu)
Bikhari yado ke panno ki
Bikhari yado ke panno ki
Sakshi Tripathi
आगाज़
आगाज़
Vivek saswat Shukla
24/235. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/235. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"अंकों की भाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
अब किसपे श्रृंगार करूँ
अब किसपे श्रृंगार करूँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Neeraj Agarwal
पुस्तकें
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
बंद लिफाफों में न करो कैद जिन्दगी को
बंद लिफाफों में न करो कैद जिन्दगी को
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...