Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 1 min read

*पाते असली शांति वह ,जिनके मन संतोष (कुंडलिया)*

पाते असली शांति वह ,जिनके मन संतोष (कुंडलिया)

पाते असली शांति वह ,जिनके मन संतोष
जिनको जो भी मिल गया ,उसमें तनिक न रोष
उसमें तनिक न रोष ,जिन्हें हरि-इच्छा प्यारी
भरा ईश-प्रणिधान , उसी में खुशियाँ सारी
कहते रवि कविराय ,सदा प्रभु के गुण गाते
उनके लिए प्रसाद ,अशुभ-शुभ जो भी पाते
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
नोट:- देखा जाए तो संतोष और ईश्वर-प्रणिधान एक ही सिक्के के दो पहलू हैं । ईश्वर को परमपिता तथा सर्वोच्च शुभचिंतक मानते हुए वह जो हमें देता है अथवा नहीं देता है अथवा देने के बाद छीन लेता है ,सब परिस्थितियों में उसकी कोई सुंदर योजना मानते हुए संतुष्ट रहना -इसी को ईश्वर-प्रणिधान कह सकते हैं तथा इसी को जीवन में संतोष भाव भी कहा जा सकता है । योग-साधना में इस प्रवृत्ति का विशेष महत्व है।
■■■■■■■■■■■■■■■■■
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

420 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
"नया दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
2551.*पूर्णिका*
2551.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फेसबुक गर्लफ्रेंड
फेसबुक गर्लफ्रेंड
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यही है हमारी मनोकामना माँ
यही है हमारी मनोकामना माँ
Dr Archana Gupta
बुंदेली दोहा -खिलकट (आधे पागल)
बुंदेली दोहा -खिलकट (आधे पागल)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
क्रिकेटी हार
क्रिकेटी हार
Sanjay ' शून्य'
*मिलना जग में भाग्य से, मिलते अच्छे लोग (कुंडलिया)*
*मिलना जग में भाग्य से, मिलते अच्छे लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
♥️मां ♥️
♥️मां ♥️
Vandna thakur
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जिंदगी तुझको सलाम
जिंदगी तुझको सलाम
gurudeenverma198
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
Dr.Rashmi Mishra
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Seema gupta,Alwar
जीवन संग्राम के पल
जीवन संग्राम के पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जंगल में सर्दी
जंगल में सर्दी
Kanchan Khanna
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
जीवन है मेरा
जीवन है मेरा
Dr fauzia Naseem shad
काम ये करिए नित्य,
काम ये करिए नित्य,
Shweta Soni
■ भूमिका (08 नवम्बर की)
■ भूमिका (08 नवम्बर की)
*प्रणय प्रभात*
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
शेखर सिंह
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
sushil sarna
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
Anil chobisa
मेरे ख्वाब ।
मेरे ख्वाब ।
Sonit Parjapati
प्रकृति कि  प्रक्रिया
प्रकृति कि प्रक्रिया
Rituraj shivem verma
मेरी चाहत
मेरी चाहत
Namrata Sona
कोई क्या करे
कोई क्या करे
Davina Amar Thakral
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Surya Barman
वीर गाथा है वीरों की ✍️
वीर गाथा है वीरों की ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तलाश हमें  मौके की नहीं मुलाकात की है
तलाश हमें मौके की नहीं मुलाकात की है
Tushar Singh
स्वभाव
स्वभाव
अखिलेश 'अखिल'
* शक्ति है सत्य में *
* शक्ति है सत्य में *
surenderpal vaidya
Loading...