Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
May 16, 2016 · 1 min read

पाती पिय की

212 212 212 212
प्रेम पाती पिया की मैं ‘ पढ़ने लगी।
मन की’ कोयल खुशी से चहकने लगी।
प्रीति लिखने लगी नैन की लेखनी।
रात – रानी ह्रदय की महकने के लगी।।
****************************

5 Comments · 529 Views
You may also like:
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
आतुरता
अंजनीत निज्जर
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Aruna Dogra Sharma
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कशमकश
Anamika Singh
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
पिता का दर्द
Nitu Sah
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
Loading...