Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2016 · 1 min read

पाती पिय की

212 212 212 212
प्रेम पाती पिया की मैं ‘ पढ़ने लगी।
मन की’ कोयल खुशी से चहकने लगी।
प्रीति लिखने लगी नैन की लेखनी।
रात – रानी ह्रदय की महकने के लगी।।
****************************

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
5 Comments · 637 Views
You may also like:
सुकून
Harshvardhan "आवारा"
कहते हैं न....
Varun Singh Gautam
तेरा पापा मेरा बाप
Satish Srijan
मतलब के रिश्ते
Anamika Singh
प्रेरणा
Shiv kumar Barman
लड़ाकू विमान और बेटियां
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
!! सुंदर वसंत !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
हे, मनुज अब तो कुछ बोल,
डी. के. निवातिया
आदरणीय अन्ना जी, बुरा न मानना जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चाय
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अधूरी चाहत
Faza Saaz
*आँसू (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सिर्फ तुम
Seema 'Tu hai na'
Shayri
श्याम सिंह बिष्ट
धन की देवी
कुंदन सिंह बिहारी
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
■ आज का दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
मुझसे मेरा हाल न पूछे
Shiva Awasthi
बेजुबान जानवर अपने दोस्त
Manoj Tanan
प्यार ~ व्यापार
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
💐💐परेसां न हो हश्र बहुत हसीं होगा💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आपकी अनुपस्थिति
Dr fauzia Naseem shad
जबकि मैं इस कोशिश में नहीं हूँ
gurudeenverma198
बाल कहानी- प्रिया
SHAMA PARVEEN
बादल का रौद्र रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
विचारमंच भाग -2
Rohit Kaushik
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
कुछ यादें आज भी जिन्दा है।
Taj Mohammad
तल्ख़ लहज़े का शायर
Shekhar Chandra Mitra
✍️एक सच्चाई✍️
'अशांत' शेखर
Loading...