Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2024 · 1 min read

पागलपन

पागलपन

बचपन की गुस्ताखियो को
आज़ पर ना हावि होने दूंगा।
भुल भविष्य का पता नही तंकलीबो को
वर्तमान की बैशाखी पर ना रहने दूंगा

हावि लगी मुझे भुत-भविष्य की साखियों से
दिमाग का सन्तुलन तो पागलपन है।

लोक लिहाज की कर चिन्ता
अपने-पन को खोया है।
संकल्प मन दृढ बनाकर
चिन्ता रख अपने लक्ष्य को खोया है।
हावि दिमाग पर भुत. भविष्य की साखियों से
दिमाग का असन्तुलन तो पागलपन है।
-आंखा में कड़ी मेहनत का प्रसाद
आज इन आंखो में दिखता है।
महसुस कर बिन सहमत का प्रासाद.
-खाली मन मे तानो का रिसाव उतरता है।

हावि दिमाग पर भुत भविष्य की साखियों से
बना दिमागी असन्तुलन तो पागलपन है।
दुस्सवार हुआ मेरा लक्ष्य प्राप्ति में,
प्रचण्ड रख आंखों में ज्वाला प्रतिद्वंदी का नाशक बना
ख्वाब मेरा टूटा नही लक्ष्य प्राप्ति में
रख सन्तुलन दिमाग तो आडम्बर का नाशक बना।
हावि दिमाग पर भूत- भविष्य की साखियों से
बना दिमागी असन्तुलन. तो पागलपन था।
विश्वास जगा मन में प्रतिकार करने का
छोटे – बडो का आदर छोड़ उनका मान तोड़ा था।
आडम्बर की आहट से धिक्कार सहने का
छोड़ बहाना शर्म हया का भान छोड़ा था !

Language: Hindi
Tag: Muktak
25 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
Kuldeep mishra (KD)
चंद्रयान
चंद्रयान
Mukesh Kumar Sonkar
लफ़्ज़ों में हमनें
लफ़्ज़ों में हमनें
Dr fauzia Naseem shad
नैतिकता की नींव पर प्रारंभ किये गये किसी भी व्यवसाय की सफलता
नैतिकता की नींव पर प्रारंभ किये गये किसी भी व्यवसाय की सफलता
Paras Nath Jha
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
Harminder Kaur
*आयु मानव को खाती (कुंडलिया)*
*आयु मानव को खाती (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
मजदूर
मजदूर
Dr Archana Gupta
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
Manisha Manjari
कोरोना काल
कोरोना काल
Sandeep Pande
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
❤️🖤🖤🖤❤
❤️🖤🖤🖤❤
शेखर सिंह
!! कुद़रत का संसार !!
!! कुद़रत का संसार !!
Chunnu Lal Gupta
जज़्बात
जज़्बात
Neeraj Agarwal
मै नर्मदा हूं
मै नर्मदा हूं
Kumud Srivastava
राम काव्य मन्दिर बना,
राम काव्य मन्दिर बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
नाम परिवर्तन
नाम परिवर्तन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
VINOD CHAUHAN
ମର୍ଯ୍ୟାଦା ପୁରୁଷୋତ୍ତମ ଶ୍ରୀରାମ
ମର୍ଯ୍ୟାଦା ପୁରୁଷୋତ୍ତମ ଶ୍ରୀରାମ
Bidyadhar Mantry
कहते  हैं  रहती  नहीं, उम्र  ढले  पहचान ।
कहते हैं रहती नहीं, उम्र ढले पहचान ।
sushil sarna
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
Neelam Sharma
हमेशा फूल दोस्ती
हमेशा फूल दोस्ती
Shweta Soni
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
हम जियें  या मरें  तुम्हें क्या फर्क है
हम जियें या मरें तुम्हें क्या फर्क है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*मेरे दिल में आ जाना*
*मेरे दिल में आ जाना*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"एकान्त"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...