Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2016 · 2 min read

पाकिस्तान मिट जायगा (कविता )

उरी में शहीद हुए,शहीदों को समर्पित

पकिस्तान मिट जायगा !

कश्मीर होगा अब से देखो, भारत देश की शान
पाकिस्तान का मिट जायगा, सभी नामो निशान |

सोना, मरना एक जैसा, निर्जीव शव है जैसा
सोता अनजान होता है, आस पास कौन कैसा |
कायर हो तुम अधम, सोते में उनकी जान ली
निर्जीव शव को मार कर, बहादुरी क्या कर ली ?
परिणाम नहीं जानते तुम, नतीजे से हो अनजान
कश्मीर होगा अब से देखो, भारत देश की शान
पाकिस्तान का मिट जायगा, सभी नामो निशान |

गर हिम्मत हो तुम में तो. मैदाने जंग में आओ
बीरता से मैदाने जंग में अपनी बहादुरी दिखाओ |
छुप छुप कर कपटी तुम, अब भी खेलते खेल
जगे सिंह की मार तुम, कभी नहीं पाते झेल |
बचकानी हरकतें छोडो, दीखाओ तुम हो जवान
कश्मीर होगा अब से देखो, भारत देश की शान
पाकिस्तान का मिट जायगा, सभी नामो निशान |

हमें मत डराओ देकर धमकी, उस एटम बम्ब की
तुम भूल गए क्या शर्मनाक अंजाम इकहत्तर की ?
इतराओ न, पड़े रहेंगे ख्वाब के सारे पटाखे तुम्हारे
न कोई बाहन होगा न हाथ, ये चलेंगे किसके सहारे ?
हमारे ब्रह्मोस से न बचेगा, न रहेगी किसी की जान
कश्मीर होगा अब से देखो, भारत देश की शान
पाकिस्तान का मिट जायगा, सभी नामो निशान |

आतंक पल रहा है पाकिस्तान के हर गाँव शहर में
कराची लाहोर के कोने कोने, स्वतंत्र खंड काश्मीर में
खोदा गड्ढा भारत के वास्ते, बनेगा वही पाक का मजार
आहिस्ता आहिस्ता अब होंगे, पाकिस्तान के टुकड़े हज़ार,
उन सबसे बेखबर हो, पाकिस्तान के तुम हुकुम रान
कश्मीर होगा अब से देखो, भारत देश की शान
पाकिस्तान का मिट जायगा, सभी नामो निशान

©कालीपद ‘प्रसाद’

Language: Hindi
4271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज के ज़माने में असली हमदर्द वो, जो A का हाल A के बजाए B और C
आज के ज़माने में असली हमदर्द वो, जो A का हाल A के बजाए B और C
*प्रणय प्रभात*
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी तेरे नाम हो जाए
जिंदगी तेरे नाम हो जाए
Surinder blackpen
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
23/82.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/82.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*शक्ति दो भवानी यह वीरता का भाव बढ़े (घनाक्षरी: सिंह विलोकित
*शक्ति दो भवानी यह वीरता का भाव बढ़े (घनाक्षरी: सिंह विलोकित
Ravi Prakash
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
गम भुलाने के और भी तरीके रखे हैं मैंने जहन में,
गम भुलाने के और भी तरीके रखे हैं मैंने जहन में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कोई ख़्वाब है
कोई ख़्वाब है
Dr fauzia Naseem shad
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
Satish Srijan
रिश्तों की कसौटी
रिश्तों की कसौटी
VINOD CHAUHAN
बेवकूफ
बेवकूफ
Tarkeshwari 'sudhi'
!! दूर रहकर भी !!
!! दूर रहकर भी !!
Chunnu Lal Gupta
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
*
*"नमामि देवी नर्मदे"*
Shashi kala vyas
हौसला
हौसला
डॉ. शिव लहरी
वट सावित्री
वट सावित्री
लक्ष्मी सिंह
"लाल गुलाब"
Dr. Kishan tandon kranti
दाग
दाग
Neeraj Agarwal
एक कुंडलिया
एक कुंडलिया
SHAMA PARVEEN
काँटे तो गुलाब में भी होते हैं
काँटे तो गुलाब में भी होते हैं
Sunanda Chaudhary
हाथ पसारने का दिन ना आए
हाथ पसारने का दिन ना आए
Paras Nath Jha
पहला इश्क
पहला इश्क
Dipak Kumar "Girja"
Second Chance
Second Chance
Pooja Singh
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
वक्त
वक्त
Ramswaroop Dinkar
आजकल के लोगों के रिश्तों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करता है।
आजकल के लोगों के रिश्तों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करता है।
पूर्वार्थ
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
Lokesh Sharma
तमन्ना है बस तुझको देखूॅं
तमन्ना है बस तुझको देखूॅं
Monika Arora
Loading...