Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

*पाऍं कैसे ब्रह्म को, आओ करें विचार (कुंडलिया)*

पाऍं कैसे ब्रह्म को, आओ करें विचार (कुंडलिया)
_______________________
पाऍं कैसे ब्रह्म को, आओ करें विचार
भीतर-बाहर बस रहा, कब उसका आकार
कब उसका आकार, सनातन सत्य कहाता
अविनाशी सब काल, पकड़ मुश्किल से आता
कहते रवि कविराय, शरण उस ही की जाऍं
करके उसे प्रसन्न, परे इंद्रिय से पाऍं
———————————–
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर ,उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

1 Like · 66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मजदूर है हम
मजदूर है हम
Dinesh Kumar Gangwar
धैर्य.....….....सब्र
धैर्य.....….....सब्र
Neeraj Agarwal
3249.*पूर्णिका*
3249.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ख़ुद को हमारी नज़रों में तलाशते हैं,
ख़ुद को हमारी नज़रों में तलाशते हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
"जीत सको तो"
Dr. Kishan tandon kranti
डगर जिंदगी की
डगर जिंदगी की
sandeep kumar Yadav
चल सतगुर के द्वार
चल सतगुर के द्वार
Satish Srijan
हालातों का असर
हालातों का असर
Shyam Sundar Subramanian
संग रहूँ हरपल सदा,
संग रहूँ हरपल सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
सत्य कुमार प्रेमी
आदमियों की जीवन कहानी
आदमियों की जीवन कहानी
Rituraj shivem verma
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
Nasib Sabharwal
अफसोस-कविता
अफसोस-कविता
Shyam Pandey
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
#उपमा
#उपमा
*Author प्रणय प्रभात*
* संवेदनाएं *
* संवेदनाएं *
surenderpal vaidya
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
Gouri tiwari
याद  में  ही तो जल रहा होगा
याद में ही तो जल रहा होगा
Sandeep Gandhi 'Nehal'
शराब हो या इश्क़ हो बहकाना काम है
शराब हो या इश्क़ हो बहकाना काम है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ईर्ष्या
ईर्ष्या
नूरफातिमा खातून नूरी
, गुज़रा इक ज़माना
, गुज़रा इक ज़माना
Surinder blackpen
अपने होने की
अपने होने की
Dr fauzia Naseem shad
ये नफरत बुरी है ,न पालो इसे,
ये नफरत बुरी है ,न पालो इसे,
Ranjeet kumar patre
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कभी-कभी ऐसा लगता है
कभी-कभी ऐसा लगता है
Suryakant Dwivedi
खेत -खलिहान
खेत -खलिहान
नाथ सोनांचली
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*** कभी-कभी.....!!! ***
*** कभी-कभी.....!!! ***
VEDANTA PATEL
गीत गा लअ प्यार के
गीत गा लअ प्यार के
Shekhar Chandra Mitra
Navratri
Navratri
Sidhartha Mishra
Loading...