Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 2 min read

पाँच सितारा, डूबा तारा

दिल्ली के एक अस्पताल में सात वर्षीया आद्या की 13 दिन तक डेंगू से जूझने के बाद मृत्यु हो गई| इस इलाज के लिए उसके माता-पिता ने करीब १६ लाख रुपये चुकाए | जिनका हिसाब देखने पर पता लगता है कि उस बच्ची को एक दिन में ४४ इंजेक्शन लगाए जाते थे| और भी न जाने किस किस तरह का अनावश्यक खर्चा बताया गया| इस सब के बाद भी बच्ची बच गई होती तो शायद यह खबर भी न बनती| पाँच सितारा अस्पताओं की वास्तविकता को दिखाने का इस कविता द्वारा प्रयास किया है |

धरती पर जिसे भगवान का रूप माना था
उसी चिकित्सक का क्रूर सत्य जाना था|
इस अस्पताल का है बहुत बड़ा नाम
पाँच सितारा सुविधाएं देना इसका काम |

सरकारी हस्पताल का है ही बुरा हाल
गन्दगी व काहिली का फैला यहाँ जाल
बीमारों के लिए यहाँ बिस्तर नहीं भरपूर
सुना जाते हैं झिड़की क्लीनर भी ज़रूर |

जो भी मनुष्य है ज़रा भी सामर्थ्य्वान
पांच सितारा का ही रुख करता है यह मान
यहाँ इलाज से यों बढ़ती भी है शान
आपका स्टेटस भी देख पाते हैं मेहमान

कुछ भी हो कारण, रोगी तो है रोगी
घरवाले हैं मानते , केयर पूरी होगी|
होती भी है, केयर, बदले जाते हैं रोज़ चादर
नर्स हो या डॉक्टर देते है सब आदर |

हाइजीन का रखते है इतना ध्यान
बदलते दस्ताने हर बार ये श्रीमान
गाउन भी डॉक्टर का हर बार बदला जाता है
इन सब का खर्चा रोगी का परिवार चुकाता है|

इंजेक्शन , ग्लुकोस, ब्लड, सब चढ़ाया जाता है
रोजाना एक न एक टेस्ट करवाया जाता है
रोगी की हालत में यदि न हो सुधार
तो दूसरे अस्पताल से एक्सपर्ट भी बुलाया जाता है

रोगी हो साधारण या हालत हो गंभीर
डॉक्टर की बात उसे कर देती उसे अधीर
रोग हो कुछ भी यही प्रोसेस अपनाया जाता है
छोटी भी यदि बात हो तो हौवा बनाया जाता है |

इतनी परवाह से रोगी हो जाता है निहाल
किसी भी बात पर उठाता नहीं सवाल
यदि ठीक हो गया तो मोटा बिल चुकाता है
डॉक्टर का शुक्रिया कर, घर अपने जाता है|

सभी नहीं होते किन्तु इतने भाग्यवान
कुछ को श्मशान में ही मिलता है आराम
अस्पताल को नहीं किन्तु उससे कुछ काम
चुकाना है बिल १६ लाख का तू जान |

दस दिन का किराया, कमरा जो साफ़ कराया
डॉक्टरों के दस्ताने, टेस्टों के फ़साने
एक दिन में सुइयां चवालीस, ग्लूकोस की बोतलें खालिस
डॉक्टर के नौ सौ गाउन का ,सबसे बड़ा अस्पताल है ये टाउन का
रोगी का खाना, मुफ्त थोड़ी है दवाखाना ?
मशीनों की देखभाल , सबसे बड़ा बवाल |
जन्म व मृत्यु तो होती रहती है संसार में
रोगी को लूटना अस्पताल के अख्तियार में |

डॉ मंजु सिंह गुप्ता

Language: Hindi
108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नियम पुराना
नियम पुराना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
आप कभी 15% मनुवादी सोच को समझ ही नहीं पाए
आप कभी 15% मनुवादी सोच को समझ ही नहीं पाए
शेखर सिंह
" फ़साने हमारे "
Aarti sirsat
हमारा मन
हमारा मन
surenderpal vaidya
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
यदि आप सकारात्मक नजरिया रखते हैं और हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ प
यदि आप सकारात्मक नजरिया रखते हैं और हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ प
पूर्वार्थ
Who am I?
Who am I?
R. H. SRIDEVI
जीत मनु-विधान की / मुसाफ़िर बैठा
जीत मनु-विधान की / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
नव्य द्वीप का रहने वाला
नव्य द्वीप का रहने वाला
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
चलते रहना ही जीवन है।
चलते रहना ही जीवन है।
संजय कुमार संजू
सावन में घिर घिर घटाएं,
सावन में घिर घिर घटाएं,
Seema gupta,Alwar
23/65.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/65.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
*पुस्तक (बाल कविता)*
*पुस्तक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
#निस्वार्थ-
#निस्वार्थ-
*प्रणय प्रभात*
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बैठे थे किसी की याद में
बैठे थे किसी की याद में
Sonit Parjapati
मन चाहे कुछ कहना .. .. !!
मन चाहे कुछ कहना .. .. !!
Kanchan Khanna
पहले नाराज़ किया फिर वो मनाने आए।
पहले नाराज़ किया फिर वो मनाने आए।
सत्य कुमार प्रेमी
"क्या बताऊँ दोस्त"
Dr. Kishan tandon kranti
सोन चिरैया
सोन चिरैया
Mukta Rashmi
विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,
विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,
Trishika S Dhara
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
bhandari lokesh
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ज़िंदगी ऐसी
ज़िंदगी ऐसी
Dr fauzia Naseem shad
कलयुगी धृतराष्ट्र
कलयुगी धृतराष्ट्र
Dr Parveen Thakur
सफलता
सफलता
Vandna Thakur
छपास रोग की खुजलम खुजलई
छपास रोग की खुजलम खुजलई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
Kumar lalit
Loading...