Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 6, 2016 · 1 min read

पहाड़ो की सैर

टेड़े -मेढ़े पहाड़ों के अनजान रास्तें
सुंदर, कमनीय और विहंगम रास्तें
गुजरती हूँ जब इन राहों से होकर
सौंदर्य का करा रहे संगम ये रास्ते

घुमावदार रास्तें से निकल कर गुजरे
प्यार भरी मीठी सी बातें कर गुजरें
सौंदर्यमयी छटा का करें नयनपान
शरारत से एक दूजे को घूर गुजरे

उषा सुन्दरी नवपुष्पों पर आ पड़ी
बारिश की बूँदे मोती बन आ पड़ी
मौसम सुहाना सा मादक हो गया
उद्वेलित आवेगों की मनशैय्या पड़ी

डॉ मधु त्रिवेदी

73 Likes · 1 Comment · 230 Views
You may also like:
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आतुरता
अंजनीत निज्जर
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
आस
लक्ष्मी सिंह
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संघर्ष
Sushil chauhan
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
Loading...