Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

पहले जैसा अब अपनापन नहीं रहा

2338.पूर्णिका
🌹पहले जैसा अब अपनापन नहीं रहा🌹
22 22 22 22 1212
देखो आज चुलबुले बचपन नहीं रहा ।
पहले जैसा अब अपनापन नहीं रहा।।
भूल गए लोग रिश्तें नातें यहाँ जहाँ ।
सच सच बोले ऐसा दरपन नहीं रहा।।
दुनिया की अजब कहानी है सुने कहाँ ।
घोले जहर जुबां मीठापन नहीं रहा ।।
करते सब तरक्की की बातें दया धरम ।
बेमानी हावी सुचितापन नहीं रहा ।।
बदलेंगे खेदू अब तकदीर नेकिया।
साथी साथी में भोलापन नहीं रहा ।।
…………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश ”
खरेंगा धमतरी (छ्त्तीसगढ़ )

Language: Hindi
251 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मिली जिस काल आजादी, हुआ दिल चाक भारत का।
मिली जिस काल आजादी, हुआ दिल चाक भारत का।
डॉ.सीमा अग्रवाल
श्री रामलला
श्री रामलला
Tarun Singh Pawar
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सावन बीत गया
सावन बीत गया
Suryakant Dwivedi
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"सावधान"
Dr. Kishan tandon kranti
मार   बेरोजगारी   की   सहते  रहे
मार बेरोजगारी की सहते रहे
अभिनव अदम्य
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
सत्य कुमार प्रेमी
पानी  के छींटें में भी  दम बहुत है
पानी के छींटें में भी दम बहुत है
Paras Nath Jha
क्या यही प्यार है
क्या यही प्यार है
gurudeenverma198
सुनो
सुनो
पूर्वार्थ
प्रेम में डूब जाने वाले,
प्रेम में डूब जाने वाले,
Buddha Prakash
2576.पूर्णिका
2576.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
होलिका दहन
होलिका दहन
Bodhisatva kastooriya
नीलेश
नीलेश
Dhriti Mishra
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
Kanchan Khanna
तेरे हक़ में
तेरे हक़ में
Dr fauzia Naseem shad
करवाचौथ (कुंडलिया)
करवाचौथ (कुंडलिया)
दुष्यन्त 'बाबा'
चंद शब्दों से नारी के विशाल अहमियत
चंद शब्दों से नारी के विशाल अहमियत
manorath maharaj
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
Anand Kumar
शब्द
शब्द
Sûrëkhâ
खद्योत हैं
खद्योत हैं
Sanjay ' शून्य'
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■सस्ता उपाय■
■सस्ता उपाय■
*Author प्रणय प्रभात*
जो खास है जीवन में उसे आम ना करो।
जो खास है जीवन में उसे आम ना करो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कड़वी बात~
कड़वी बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मनुष्य का उद्देश्य केवल मृत्यु होती हैं
मनुष्य का उद्देश्य केवल मृत्यु होती हैं
शक्ति राव मणि
ठहर गया
ठहर गया
sushil sarna
आकाश दीप - (6 of 25 )
आकाश दीप - (6 of 25 )
Kshma Urmila
Loading...