Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2023 · 1 min read

*पशु से भिन्न दिखने वाला …. !*

पशु से भिन्न दिखने वाला …. !

बलात्कार को पार्श्विक कहा जाता है,
पर यह पशु की तौहीन है,
पशु बलात्कार नही करते,
सुअर तक नही करता,
मगर आदमी करता है
हरिशंकर परसाई

सलाम – ए – सुबह …

284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नेताम आर सी
View all
You may also like:
" देखा है "
Dr. Kishan tandon kranti
आंसू ना बहने दो
आंसू ना बहने दो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
Shweta Soni
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
Aarti sirsat
अपनों की महफिल
अपनों की महफिल
Ritu Asooja
जिसकी भी आप तलाश मे हैं, वह आपके अन्दर ही है।
जिसकी भी आप तलाश मे हैं, वह आपके अन्दर ही है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
Good morning 🌅🌄
Good morning 🌅🌄
Sanjay ' शून्य'
कि लड़का अब मैं वो नहीं
कि लड़का अब मैं वो नहीं
The_dk_poetry
हम और तुम जीवन के साथ
हम और तुम जीवन के साथ
Neeraj Agarwal
*** मुफ़लिसी ***
*** मुफ़लिसी ***
Chunnu Lal Gupta
जंजालों की जिंदगी
जंजालों की जिंदगी
Suryakant Dwivedi
!!
!! "सुविचार" !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मां
मां
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*देखो मन में हलचल लेकर*
*देखो मन में हलचल लेकर*
Dr. Priya Gupta
*न जाने रोग है कोई, या है तेरी मेहरबानी【मुक्तक】*
*न जाने रोग है कोई, या है तेरी मेहरबानी【मुक्तक】*
Ravi Prakash
Living life now feels like an unjust crime, Sentenced to a world without you for all time.
Living life now feels like an unjust crime, Sentenced to a world without you for all time.
Manisha Manjari
वतन के तराने
वतन के तराने
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
शायद यह सोचने लायक है...
शायद यह सोचने लायक है...
पूर्वार्थ
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
आंगन को तरसता एक घर ....
आंगन को तरसता एक घर ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
हमारी जान तिरंगा, हमारी शान तिरंगा
हमारी जान तिरंगा, हमारी शान तिरंगा
gurudeenverma198
समीक्ष्य कृति: बोल जमूरे! बोल
समीक्ष्य कृति: बोल जमूरे! बोल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
Amit Pathak
बात जुबां से अब कौन निकाले
बात जुबां से अब कौन निकाले
Sandeep Pande
पापा
पापा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
2468.पूर्णिका
2468.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रूप अलौकिक हे!जगपालक, व्यापक हो तुम नन्द कुमार।
रूप अलौकिक हे!जगपालक, व्यापक हो तुम नन्द कुमार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...