Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

पल परिवर्तन

शीर्षक —पल का परिवर्तन–

सिर्फ एक पल ही खुशियां
जीवन में प्राणि समझता है,परमेश्वर स्वयं सिद्ध परमेश्वर व्यख्याता।।
सिर्फ एक पल की खुशियों के
लिये मानव जाने क्या क्या कर
जाता नही मिलती तो दोष सारा
समय भाग्य ईश्वर मढ़ता।।
सिर्फ एक पल में ही शून्य को
जीवन मील जाता तो कही सिर्फ
एक पल में ही जीवन जाता।।
सिर्फ एक पल ही बहुत है युग
परिवर्तन को सिर्फ एक पल में ही
विशेष ,भाग्य भगवान आता।।
पल प्रहर चलती दुनियां पल
प्रहर से ही प्रभात संध्या गति
चाल का नाता।।
नित्य गतिमान पल प्रहर
सिर्फ एक पल ही वर्तमान का
स्वर्णिम इतिहास का निर्माता।।
सिर्फ एक पल में ही बदल जाता
समय भाग्य पुरुषार्थ युग काल
जाता।।
जय और पराजय के मध्य सिर्फ
एक पल ही आता युग को पराक्रम
पुरुषार्थ का मतलब बतलाता।।
आत्मा की परम यात्रा परमात्मा
पहचान, युग का सिर्फ एक पल में
परिवर्तित वर्तमान बन जाता।।
सिर्फ एक पल ही ऐसा आता सुख
दुख का दर्पण कहलाता सिर्फ एक
पल राजा को रंक ,रंक को राजा बनाता।।
सिर्फ एक पल में ही हद हस्ती की
कस्ती का मानव समंदर की गहराई
लहरों में खो जाता।।
सिर्फ एक पल ही विशेष प्राणि
तोड़ता उद्देश्य पथ के सारे अवरोध
अग्नि पथ से निकल उउद्देश्यो के
पथ का विजेता कहलाता।।
प्राणि की जो भी हो काया
सिर्फ एक पल की प्रतीक्षा
जब युग उत्कर्ष हर्ष का बन
जाए निर्माता।।
अतीत के पन्नो की चमक
वर्तमान का चंद्र सूरज सिर्फ
एक पल की विरासत से धन्य
धीर मुस्कुराता।।

Language: Hindi
50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
गांधी और गोडसे में तुम लोग किसे चुनोगे?
गांधी और गोडसे में तुम लोग किसे चुनोगे?
Shekhar Chandra Mitra
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दुनिया में तरह -तरह के लोग मिलेंगे,
दुनिया में तरह -तरह के लोग मिलेंगे,
Anamika Tiwari 'annpurna '
गुलाब के काॅंटे
गुलाब के काॅंटे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
पहचान
पहचान
Dr.Priya Soni Khare
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता के पदचिह्न (कविता)
पिता के पदचिह्न (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
रिश्तो की कच्ची डोर
रिश्तो की कच्ची डोर
Harminder Kaur
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
शेखर सिंह
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दीवाना - सा लगता है
दीवाना - सा लगता है
Madhuyanka Raj
शून्य
शून्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बाबा महादेव को पूरे अन्तःकरण से समर्पित ---
बाबा महादेव को पूरे अन्तःकरण से समर्पित ---
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
Kanchan Khanna
*हटता है परिदृश्य से, अकस्मात इंसान (कुंडलिया)*
*हटता है परिदृश्य से, अकस्मात इंसान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"मुर्गा"
Dr. Kishan tandon kranti
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
Rj Anand Prajapati
धर्म की खूंटी
धर्म की खूंटी
मनोज कर्ण
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
नेताम आर सी
बाबागिरी
बाबागिरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जागी जवानी
जागी जवानी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*कभी  प्यार में  कोई तिजारत ना हो*
*कभी प्यार में कोई तिजारत ना हो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ऋतुराज (घनाक्षरी )
ऋतुराज (घनाक्षरी )
डॉक्टर रागिनी
"नुक़्ता-चीनी" करना
*प्रणय प्रभात*
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
ruby kumari
24/250. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/250. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नव वर्ष का आगाज़
नव वर्ष का आगाज़
Vandna Thakur
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
Loading...