Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2023 · 1 min read

पर्यावरण प्रतिभाग

बोला एक बीज एक दिन
क्या मुझे मिट्टी में बोओगे !
तुम तो व्यस्त हो लगते….
क्या जमीन पर बिखेरोगे !

समय नही?कोई बात नही….
मैं खुद ही उग आऊंगा !
मैं तब फिर क्या तुम्हारी
देख-रेख खाद-पानी पाऊंगा !

तुम जल्दी में हो लगते….
खैर, अब मैं बडा़ हो गया !
हरी-भरी पत्ती डालिया
अपनी जड़ों से खड़ा हो गया !

तुम आते-जाते फूल-फल
तोड़कर खाते,ले जाते
फलने-फूलने बाद फिर भी
मैं खुशी से फूले ना समाया !
तुम धूप,गर्मी खाये हो लगते…
आओ देता हूं ठंडी छाया !

मैं,मेरे पत्ते-टहनिया कटती
क्या तुम इसको रोकोगे !
आरी कुल्हाड़ी वालो को
क्या तुम कभी टोकोगे ?

अरे तुम सो गए हो लगते….
प्रदूषित हवा फेफड़ों में भरते !
ना जाने कितनी ही
बीमारियों से हो लड़ते !

क्या अब पर्यावरण बचायेगें
ऑस-पास पेड़ लगाएंगे !
प्रकृति,पृथ्वी संवारने
जन-जन को जगाएगे !

वाह ! तुम जागे हुए हो लगते….
धरती के भी भाग जाग गए !
पर्यावरण दिवस के दिन
नई पहल में प्रतिभाग किए !
~०~
मौलिक एंव स्वरचित: कविता प्रतियोगिता
रचना संख्या-२४, जीवनसवारो,जून २०२३.

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 344 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
View all
You may also like:
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
Satyaveer vaishnav
मानव पहले जान ले,तू जीवन  का सार
मानव पहले जान ले,तू जीवन का सार
Dr Archana Gupta
रिश्ते चाहे जो भी हो।
रिश्ते चाहे जो भी हो।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मैं  नहीं   हो  सका,   आपका  आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हिंदी
हिंदी
Bodhisatva kastooriya
मध्यम परिवार....एक कलंक ।
मध्यम परिवार....एक कलंक ।
Vivek Sharma Visha
मेरा वतन
मेरा वतन
Pushpa Tiwari
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माँ बाप बिना जीवन
माँ बाप बिना जीवन
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
sushil sarna
सब्जी के दाम
सब्जी के दाम
Sushil Pandey
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
मंजिल छूते कदम
मंजिल छूते कदम
Arti Bhadauria
रूठे लफ़्ज़
रूठे लफ़्ज़
Alok Saxena
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
SPK Sachin Lodhi
मजदूर
मजदूर
Preeti Sharma Aseem
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
Manisha Manjari
Only attraction
Only attraction
Bidyadhar Mantry
* आओ ध्यान करें *
* आओ ध्यान करें *
surenderpal vaidya
"बचपन"
Dr. Kishan tandon kranti
■ प्रणय_गीत:-
■ प्रणय_गीत:-
*प्रणय प्रभात*
*खुशी लेकर चली आए, सभी के द्वार दीवाली (हिंदी गजल)*
*खुशी लेकर चली आए, सभी के द्वार दीवाली (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
तिरंगा
तिरंगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Yashmehra
Yashmehra
Yash mehra
बेमेल कथन, फिजूल बात
बेमेल कथन, फिजूल बात
Dr MusafiR BaithA
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
Ajay Kumar Vimal
वो तेरी पहली नज़र
वो तेरी पहली नज़र
Yash Tanha Shayar Hu
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
**आजकल के रिश्ते*
**आजकल के रिश्ते*
Harminder Kaur
Loading...