Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2018 · 1 min read

पर्यावरण दिवस या विवश?

पर्यावरण विवश!!!
विश्व स्तर पर फैला प्रदूषण, कर पर्यावरण को विवश।
देखो,मात्र कुछ वृक्ष लगाकर, मन रहा पर्यावरण दिवस।

ये तो वही बात हो गई कि माँ को समय पर दवा दिलवाईं ना।
देहांत पर बिलख रो सन्तति बोले, माँ मुझे छोड़ कर जाई ना।

प्राकृतिक आपदा-विपदाओं ने हमको है हर बार दर्पण दिखाया।
पर उन्नति विकास होड़ में हमने,स्व को पूर्णतः कंक्रीट बनाया।

चल उठ!कर पैदा झंकार हृदय में, कि सब लक्ष मिल यह साधें।
वृक्षारोपण को बना जेवड़ी,चल मिल पग बैरी प्रदूषण के बाँधे।

मिसाल हो बेमिसाल मनु, ऐसी करनी होगी प्लानिंग।
माइक्रो फॉरेस्ट हर नगर लगाकर,मिलेगी नव मॉर्निंग।

प्रदूषित निष्प्राण नदियों को भी, नव श्वास देंगे वन उपवन।
जंगल प्रकृति का अनमोल करिश्मा,रखें संतुलित पर्यावरण।

विक्राल प्रदूषण से निपटने खातिर,लगाओ ग़र छोटे छोटे जंगल।
शुद्ध श्वास मिले सर्व प्राणी जगत को, होगा कंक्रीट में भी मंगल।

प्रदूषित अशुद्ध वायु सुनो वातावरण में है नित ही बढ़ती जा रही।
अशोक,कदंब,शीशम आदि हितैषी तरु संख्या भी घटती जा रही।

इमली,बेल,जामुन,बेर,गूलर,खैर,शहतूत,बढ़हल,शरीफा हैं दक्ष।
खिन्नी, नीम, बरगद, अर्जुन आदि अति बहुउपयोगी हैं फल वृक्ष।

सूक्ष्म वन स्वरूप में वसुधा पर, चलो सजाएँ विटप गुलदस्ता।विलुप्त प्रजाति तरु लगाके खुलेगा,नव पीढ़ी का स्वच्छ रस्ता।

आबादी के बीच कर वृक्षरोपण,चलो हरित करें बंजर भूमि वक्ष।स्वलाभ लालच को तज नीलम,साधो पर्यावरण संरक्षण का लक्ष।

नीलम शर्मा…..✍️

Language: Hindi
2 Likes · 480 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वीर गाथा है वीरों की ✍️
वीर गाथा है वीरों की ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
फितरत
फितरत
Dr.Khedu Bharti
Humanism : A Philosophy Celebrating Human Dignity
Humanism : A Philosophy Celebrating Human Dignity
Harekrishna Sahu
" मिट्टी के बर्तन "
Pushpraj Anant
वाह टमाटर !!
वाह टमाटर !!
Ahtesham Ahmad
"मित्रों के पसंदों को अनदेखी ना करें "
DrLakshman Jha Parimal
★बादल★
★बादल★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
परिंदा हूं आसमां का
परिंदा हूं आसमां का
Praveen Sain
डीजल पेट्रोल का महत्व
डीजल पेट्रोल का महत्व
Satish Srijan
दिल के फ़साने -ग़ज़ल
दिल के फ़साने -ग़ज़ल
Dr Mukesh 'Aseemit'
बड़ी बेरंग है ज़िंदगी बड़ी सुनी सुनी है,
बड़ी बेरंग है ज़िंदगी बड़ी सुनी सुनी है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"मेरे गीत"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा गुरूर है पिता
मेरा गुरूर है पिता
VINOD CHAUHAN
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
राधा
राधा
Mamta Rani
सुंदर नाता
सुंदर नाता
Dr.Priya Soni Khare
शिव-शक्ति लास्य
शिव-शक्ति लास्य
ऋचा पाठक पंत
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
Keshav kishor Kumar
कभी वो कसम दिला कर खिलाया करती हैं
कभी वो कसम दिला कर खिलाया करती हैं
Jitendra Chhonkar
*आते हैं जो पतझड़-वसंत, मौसम ही उनको मत जानो (राधेश्यामी छंद
*आते हैं जो पतझड़-वसंत, मौसम ही उनको मत जानो (राधेश्यामी छंद
Ravi Prakash
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
आर.एस. 'प्रीतम'
रक़्श करतें हैं ख़यालात मेरे जब भी कभी..
रक़्श करतें हैं ख़यालात मेरे जब भी कभी..
Mahendra Narayan
उनकी उल्फत देख ली।
उनकी उल्फत देख ली।
सत्य कुमार प्रेमी
मोहब्बत बनी आफत
मोहब्बत बनी आफत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बचपन की यादें
बचपन की यादें
प्रीतम श्रावस्तवी
उन्हें हद पसन्द थीं
उन्हें हद पसन्द थीं
हिमांशु Kulshrestha
"आंधी की तरह आना, तूफां की तरह जाना।
*प्रणय प्रभात*
बेख़ौफ़ क़लम
बेख़ौफ़ क़लम
Shekhar Chandra Mitra
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
विवाह का आधार अगर प्रेम न हो तो वह देह का विक्रय है ~ प्रेमच
विवाह का आधार अगर प्रेम न हो तो वह देह का विक्रय है ~ प्रेमच
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Loading...