Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

पर्यायवरण (दोहा छन्द)

आज प्रदूषण कर गया, हर सीमा को पार।
लोग अभी भी मस्त हैं, ये कैसा संसार।।1

शुद्ध हवा मिलती नहीं, जल थल या आकाश।
जीवन निस-दिन घट रहा, आया निकट विनाश।।2

ग्लोबल वार्मिंग ला रही, सूखा, बाढ़, अकाल।
अंधी दौड़ विकास की, हर कोई बेहाल।।3

झुकी पत्तियाँ पेड़ की, करतीं क्रंदन आज।
हरियाली गायब हुई, चिंतित नहीं समाज।।4

धुँआ उड़ाती गाड़ियाँ, फैलाती हैं शोर
जहर उगलती चिमनियाँ, नहीं किसी का जोर।।5

घटे पर्त ओजोन की, बढ़ता जाता ताप।
त्राहि त्राहि मानव करे, प्रगति बनी अभिशाप।।6

नाभिकीय हथियार से, जन जीवन है त्रस्त।
हैरानी इस बात की, फिर भी मानव मस्त।।7

रसायन के प्रकोप से, दूषित हुई ज़मीन।
धरती बंजर हो रही, मनुज स्वार्थ में लीन।।8

विभिन्न जीव जन्तु भी, पर्यावरण के अंग।
दूषित वातावरण से, हुए सभी बेरंग।।9

गौरैया गायब हुई, दिखे नहीं अब चील
पत्थर के जंगल दिखें, लुप्त हो गयी झील।।10

लिए पॉलिथिन हाथ में, घूम रहे श्रीमान।
यत्र-तत्र बिखरा दिए, किसको कहें सुजान।।11

ईश्वर ने हमको दिए, नदियाँ, पर्वत, झील।
अनुचित दोहन से गया, मानव सबको लील।।12

कंक्रीट के नगर बने, खत्म हो रहे गाँव
राही को सपना हुआ, अब बरगद की छाँव।।13

कुम्भकरण की नीद में, सोयें क्यों दिन रात।
देख अभी कुछ सोचिये, बिन मौसम बरसात।।14

आज सभी संकल्प लें, नहीं असम्भव काम।
नाथ प्रदूषण अब मिटे, हो सबको आराम।।15

नाथ सोनांचली

329 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्री राम
श्री राम
Kavita Chouhan
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
पहाड़ पर बरसात
पहाड़ पर बरसात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Tu wakt hai ya koi khab mera
Tu wakt hai ya koi khab mera
Sakshi Tripathi
क्यों हिंदू राष्ट्र
क्यों हिंदू राष्ट्र
Sanjay ' शून्य'
💐प्रेम कौतुक-356💐
💐प्रेम कौतुक-356💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं तो महज एहसास हूँ
मैं तो महज एहसास हूँ
VINOD CHAUHAN
नल बहे या नैना, व्यर्थ न बहने देना...
नल बहे या नैना, व्यर्थ न बहने देना...
इंदु वर्मा
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
Manisha Manjari
*कैसे हार मान लूं
*कैसे हार मान लूं
Suryakant Dwivedi
राह देखेंगे तेरी इख़्तिताम की हद तक,
राह देखेंगे तेरी इख़्तिताम की हद तक,
Neelam Sharma
आज का दिन
आज का दिन
Punam Pande
हत्या
हत्या
Kshma Urmila
छायावाद के गीतिकाव्य (पुस्तक समीक्षा)
छायावाद के गीतिकाव्य (पुस्तक समीक्षा)
दुष्यन्त 'बाबा'
गाँधी जी की लाठी
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
जिये
जिये
विजय कुमार नामदेव
*** एक दीप हर रोज रोज जले....!!! ***
*** एक दीप हर रोज रोज जले....!!! ***
VEDANTA PATEL
दोस्त न बन सकी
दोस्त न बन सकी
Satish Srijan
हाँ मैं किन्नर हूँ…
हाँ मैं किन्नर हूँ…
Anand Kumar
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कुत्ते की पूंछ भी
कुत्ते की पूंछ भी
*Author प्रणय प्रभात*
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
*सदियों बाद पधारे हैं प्रभु, जन्मभूमि हर्षाई है (हिंदी गजल)*
*सदियों बाद पधारे हैं प्रभु, जन्मभूमि हर्षाई है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मेरी गुड़िया
मेरी गुड़िया
Kanchan Khanna
जो भी आ जाएंगे निशाने में।
जो भी आ जाएंगे निशाने में।
सत्य कुमार प्रेमी
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
कार्तिक नितिन शर्मा
मित्र भेस में आजकल,
मित्र भेस में आजकल,
sushil sarna
Loading...