Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 7, 2016 · 1 min read

” पर्दा “

घर में है जब पर्दा , बाहर क्यों बेपर्दा …….
आखिर इंसान हूँ मै, देखता क्या न करता !!

तेरा महकना भी लाज़मी है वक्त के मुताबिक,
मेरे तो अपने हैं यहाँ तू ही तेरा करता धरता !!

वही चमड़ी वही खाल है तेरी ,
वही आँत है, वही बाल तेरा !

घर में है जब पर्दा , बाहर क्यों बेपर्दा……..
आखिर इंसान हूँ मैं, देखता क्या न करता !!

तेरी सोच को मैं सलाम करूँ ,
तेरे इस होड़ को मैं प्रणाम करूँ !

समझ नहीं आता , तुझे देख कर कभी
तुझ जैसे ही हो रहे तुझे देख कर सभी !!

घर में है जब पर्दा , बाहर क्यों बेपर्दा……..
आखिर इंसान हूँ मैं, देखता क्या न करता !!

रोक दे अभी छोड़ दे अभी ये जिस्म को दिखाना ये जिस्म को बहलाना,
दुनिया है ये दुनिया हर कोई नहीं एक जैसा ये तूने भी है माना !!

घर में है जब पर्दा , बाहर क्यों बेपर्दा……..
आखिर इंसान हूँ मैं, देखता क्या न करता !!

…….. बृज

2 Likes · 1 Comment · 341 Views
You may also like:
पिता का दर्द
Anamika Singh
मेरी नेकियां।
Taj Mohammad
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
पक्षियों से कुछ सीखें
Vikas Sharma'Shivaaya'
महान है मेरे पिता
gpoddarmkg
जीवन इनका भी है
Anamika Singh
प्यार के फूल....
Dr. Alpa H. Amin
आग
Anamika Singh
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
You are my life.
Taj Mohammad
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बदरिया
Dhirendra Panchal
तुम चाहो तो सारा जहाँ मांग लो.....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
कर भला सो हो भला
Surabhi bharati
खोलो मन की सारी गांठे
Saraswati Bajpai
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
पुस्तक समीक्षा *तुम्हारे नेह के बल से (काव्य संग्रह)*
Ravi Prakash
“IF WE WRITE, WRITE CORRECTLY “
DrLakshman Jha Parimal
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
वेवफा प्यार
Anamika Singh
गढ़वाली चित्रकार मौलाराम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अजीब मनोस्थिति "
Dr Meenu Poonia
💐प्रेम की राह पर-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विरह का सिरा
Rashmi Sanjay
✍️किसान के बैल की संवेदना✍️
"अशांत" शेखर
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
Loading...