Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 1 min read

परिवार

परिवार हैं आसमान,
और
उसमें चलती उलझनें ही
बादल हैं।

इनके बरसने से ,
सरस चल रहा संबंध ,
नीरस और उग्र होकर,
आपसी लंबी टकराहट,
की देती है आहट।

ठीक उसी तरह जैसे,
बरसात में कौंधती है बिजली ,
भीषण -गर्ज के साथ,
और बरसता है आसमान,
अंधेरेपन से लीपे,
फिर भी,
सफेद बूंदों के साथ।

उन बूंदों में होता है ,
अनुताप वैसा,
जैसा द्रव के ,
वाष्पीकरण का,
100 डिग्री का अहसास,
उबाल भरा ।

ये टकराहट दंभ के होते हैं ,
खंभे,
इनसे लंबी – ऊंची ,
इमारतें बनती है,
घमंड की।

जिसकी नींव अनेक मतलबी ,
लबों के लफ्जों से मजबूत है,
अटूट है।
इनमें छुपे होते हैं ,
अरमान अपार।

लेकिन ,
बरसात तो तीन माह,
मेहमान है ,
वार्षिक ताप नियंत्रित करने,
लौट आती है,
उसी समय।

पर सरस चलते रिश्ते ,
बरस – बरस बरसते बूंदों की तरह,
शीतलता नहीं ,
बल्कि ताप ही देते हैं।

ये पल में बिखरे हुए ,
मन के मनके,
दिनों,
सप्ताहों,
महीनों,
और
वर्षों के वर्षों में भी,
जुड़कर,
हर्ष की मिठास को ,
बरसाते नहीं है।

अत: इस असमान,
आसमान परिवार के ,
बदलेपन के बादलों को ,
समय रहते अपने ,
सूझ रुपी वायु से विच्छिन्न कीजिए,
कि देर से सवेरा न हो।।
## समाप्त

1 Like · 106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
gurudeenverma198
बेवफा, जुल्मी💔 पापा की परी, अगर तेरे किए वादे सच्चे होते....
बेवफा, जुल्मी💔 पापा की परी, अगर तेरे किए वादे सच्चे होते....
SPK Sachin Lodhi
जुदाई का एहसास
जुदाई का एहसास
प्रदीप कुमार गुप्ता
कन्यादान
कन्यादान
Mukesh Kumar Sonkar
*गीता के दर्शन में पुनर्जन्म की अवधारणा*
*गीता के दर्शन में पुनर्जन्म की अवधारणा*
Ravi Prakash
पितृ दिवस
पितृ दिवस
Ram Krishan Rastogi
पिता एक सूरज
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
यही सोचकर आँखें मूँद लेता हूँ कि.. कोई थी अपनी जों मुझे अपना
यही सोचकर आँखें मूँद लेता हूँ कि.. कोई थी अपनी जों मुझे अपना
Ravi Betulwala
जीवन के पल दो चार
जीवन के पल दो चार
Bodhisatva kastooriya
कुछ लोग
कुछ लोग
Shweta Soni
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नये गीत गायें
नये गीत गायें
Arti Bhadauria
*यह  ज़िंदगी  नही सरल है*
*यह ज़िंदगी नही सरल है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन पथ पर सब का अधिकार
जीवन पथ पर सब का अधिकार
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कब तक
कब तक
आर एस आघात
मुद्दा
मुद्दा
Paras Mishra
"उजला मुखड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
Yogendra Chaturwedi
कोशिश न करना
कोशिश न करना
surenderpal vaidya
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
अजहर अली (An Explorer of Life)
कैलेंडर नया पुराना
कैलेंडर नया पुराना
Dr MusafiR BaithA
मैंने जलते चूल्हे भी देखे हैं,
मैंने जलते चूल्हे भी देखे हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
The flames of your love persist.
The flames of your love persist.
Manisha Manjari
नारी है तू
नारी है तू
Dr. Meenakshi Sharma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2430.पूर्णिका
2430.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्यार के सिलसिले
प्यार के सिलसिले
Basant Bhagawan Roy
Loading...