Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2024 · 1 min read

परिवार के एक सदस्य की मौत के दिन जश्न के उन्माद में डूबे इंस

परिवार के एक सदस्य की मौत के दिन जश्न के उन्माद में डूबे इंसान की संवेदनशीलता पूरी तरह “संदिग्ध” ही मानी जा सकती है।
दिवंगत भाजपा नेता श्री सुशील कुमार मोदी के प्रति विनम्र श्रद्धांजलि।
😢प्रणय प्रभात😢

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम स्वतंत्र आज हैं?
प्रेम स्वतंत्र आज हैं?
The_dk_poetry
मैं सुर हूॅ॑ किसी गीत का पर साज तुम्ही हो
मैं सुर हूॅ॑ किसी गीत का पर साज तुम्ही हो
VINOD CHAUHAN
*चले भक्ति के पथ पर जो, कॉंवरियों का अभिनंदन है (गीत)*
*चले भक्ति के पथ पर जो, कॉंवरियों का अभिनंदन है (गीत)*
Ravi Prakash
" मन भी लगे बवाली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
चली पुजारन...
चली पुजारन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज़िंदगी खुद ब खुद
ज़िंदगी खुद ब खुद
Dr fauzia Naseem shad
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
पीर मिथ्या नहीं सत्य है यह कथा,
पीर मिथ्या नहीं सत्य है यह कथा,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
Rj Anand Prajapati
"अल्फाज दिल के "
Yogendra Chaturwedi
ସାଧନାରେ କାମନା ବିନାଶ
ସାଧନାରେ କାମନା ବିନାଶ
Bidyadhar Mantry
श्री राम अमृतधुन भजन
श्री राम अमृतधुन भजन
Khaimsingh Saini
@घर में पेड़ पौधे@
@घर में पेड़ पौधे@
DR ARUN KUMAR SHASTRI
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
कहते हैं संसार में ,
कहते हैं संसार में ,
sushil sarna
महान् बनना सरल है
महान् बनना सरल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*पिता का प्यार*
*पिता का प्यार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"नारी जब माँ से काली बनी"
Ekta chitrangini
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
"Becoming a writer is a privilege, but being a reader is alw
Manisha Manjari
अच्छे दिनों की आस में,
अच्छे दिनों की आस में,
Befikr Lafz
वही जो इश्क के अल्फाज़ ना समझ पाया
वही जो इश्क के अल्फाज़ ना समझ पाया
Shweta Soni
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
Rituraj shivem verma
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जय श्रीराम
जय श्रीराम
Pratibha Pandey
..
..
*प्रणय प्रभात*
"फलों की कहानी"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...