Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 2 min read

“परिवार एक सुखद यात्रा”

सुखी जीवन का एक आधार है परिवार,
कई रिश्तों से मिलकर बनता है परिवार।
ममता इसकी नींव है ,अमर प्रेम की है गाथा।
विश्वास इसकी दहलीज़ है, एकता शक्ति से है नाता।

जहां भावों की कदर होती है,
खुशियां गतिशील रहती हैं।
मुसीबत आये एक पर पूरा परिवार साथ होता है,
हर एक के नसीब में परिवार नही होता है।

सच्चे एहसास का मंदिर है यहाँ,
दुखों ,जरूरतों की परख है यहाँ।
खुशी की लहरें सदा बहती हैं यहां,
दुख झाग बनकर किनारे होता है।

परिवार प्यास में गंगा यमुना की धार बनते हैं,
बीच भंवर में नाव फसे तो पतवार बना करते हैं।
सास श्वसुर होते हैं घर के आधार,
जेठ घर के होते हैं खेवनहार।

जिठानी, देवरानी सहयोग सदा करती हैं,
बहन जैसे साथ खड़ी रहती हैं।
ननद और देवर से होता है मनुहार,
पति से सजा रहता है मेरा घर, द्वार।

बच्चों से घर ,आँगन गूंजता है,
प्रेम रहे घर मे तो खुशहाली भर जाता है।
नाजुक डोरी रिश्तों की मांगे बस थोड़ा प्यार,
अहम छोड़कर झुक जाओ बना रहेगा परिवार।

साथ अगर हो अपनों का,
भर जाए खुशियों का अम्बार।
शस्त्रों से मानव बन जाये भले सिकन्दर,
जीवन मे खुशियों का खजाना है परिवार के अंदर।

बहू जहाँ बेटी बन जाये देतीं है घर को आकार,
घर की लक्ष्मी बनकर कर देती घर को साकार।
करें कामना ऐसी हम बिखरे ना कोई परिवार,
मिलजुल कर साथ रहें हो जाये हर दिन त्योहार।

प्रेम भरे परिवार में स्वयं ब्रह्मा भी आके झूमते हैं,
जिनके घर को मंदिर समझ कर देवगण भी चूमते हैं।
अपनेपन की बगिया हो,फले फूले परिवार,
जीवन भर की पूंजी है प्रेम से भरा हुआ परिवार।

बड़ा ही मजबूत खून का रिश्ता होता है,
जो हर किसी के नसीब में नही लिखा होता है।
बडों के आशीर्वाद से मिलती सुख शान्ति अपार,
पास रहें या दूर रहें सबकी जरुरत है परिवार।।

लेखिका:- एकता श्रीवास्तव।
प्रयागराज✍️

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 380 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ekta chitrangini
View all
You may also like:
संसार का स्वरूप
संसार का स्वरूप
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Dr arun कुमार शास्त्री
Dr arun कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मौन जीव के ज्ञान को, देता  अर्थ विशाल ।
मौन जीव के ज्ञान को, देता अर्थ विशाल ।
sushil sarna
" बोलती आँखें सदा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
💐प्रेम कौतुक-348💐
💐प्रेम कौतुक-348💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मित्र कौन है??
मित्र कौन है??
Ankita Patel
"गाली"
Dr. Kishan tandon kranti
*वानर-सेना (बाल कविता)*
*वानर-सेना (बाल कविता)*
Ravi Prakash
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
Shyam Sundar Subramanian
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
शिव प्रताप लोधी
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
Annu Gurjar
।। लक्ष्य ।।
।। लक्ष्य ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
I Can Cut All The Strings Attached
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
*
*"माँ कात्यायनी'*
Shashi kala vyas
जाड़ा
जाड़ा
नूरफातिमा खातून नूरी
मैं तो महज संसार हूँ
मैं तो महज संसार हूँ
VINOD CHAUHAN
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
Sanjay ' शून्य'
गणेश जी का हैप्पी बर्थ डे
गणेश जी का हैप्पी बर्थ डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ढलता वक्त
ढलता वक्त
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
अच्छा अख़लाक़
अच्छा अख़लाक़
Dr fauzia Naseem shad
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कवि दीपक बवेजा
*
*"ममता"* पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
umesh mehra
दुनिया सारी मेरी माँ है
दुनिया सारी मेरी माँ है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चलो...
चलो...
Srishty Bansal
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
* चान्दनी में मन *
* चान्दनी में मन *
surenderpal vaidya
Loading...