Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Nov 2023 · 1 min read

परिवर्तन

परिवर्तन हमेशा आसान नहीं होता है, लेकिन जब भी होता है,तब ढ़ेर सारी संभावनाओं को जन्म देता है।

पारस नाथ झा

69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
राम छोड़ ना कोई हमारे..
राम छोड़ ना कोई हमारे..
Vijay kumar Pandey
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
***
*** " नाविक ले पतवार....! " ***
VEDANTA PATEL
कैसा गीत लिखूं
कैसा गीत लिखूं
नवीन जोशी 'नवल'
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
जगदीश शर्मा सहज
बचपन में थे सवा शेर जो
बचपन में थे सवा शेर जो
VINOD CHAUHAN
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इजहार ए मोहब्बत
इजहार ए मोहब्बत
साहित्य गौरव
" खुशी में डूब जाते हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
फ़ितरत रखते अगर बदलने की
फ़ितरत रखते अगर बदलने की
Dr fauzia Naseem shad
नंद के घर आयो लाल
नंद के घर आयो लाल
Kavita Chouhan
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
2588.पूर्णिका
2588.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चुभे  खार  सोना  गँवारा किया
चुभे खार सोना गँवारा किया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अब तो आ जाओ सनम
अब तो आ जाओ सनम
Ram Krishan Rastogi
*सजता श्रीहरि का मुकुट ,वह गुलमोहर फूल (कुंडलिया)*
*सजता श्रीहरि का मुकुट ,वह गुलमोहर फूल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रुई-रुई से धागा बना
रुई-रुई से धागा बना
TARAN VERMA
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*प्रभु आप भक्तों की खूब परीक्षा लेते रहते हो,और भक्त जब परीक
*प्रभु आप भक्तों की खूब परीक्षा लेते रहते हो,और भक्त जब परीक
Shashi kala vyas
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
💐अज्ञात के प्रति-78💐
💐अज्ञात के प्रति-78💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
Mahender Singh Manu
😊😊😊
😊😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
कवि रमेशराज
जातिवाद का ज़हर
जातिवाद का ज़हर
Shekhar Chandra Mitra
गीत गा रहा फागुन
गीत गा रहा फागुन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
बाबुल का घर तू छोड़ चली
बाबुल का घर तू छोड़ चली
gurudeenverma198
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अब किसे बरबाद करोगे gazal/ghazal By Vinit Singh Shayar
अब किसे बरबाद करोगे gazal/ghazal By Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
Loading...