Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 2 min read

*”परिवर्तन नए पड़ाव की ओर”*

“परिवर्तन नए पड़ाव की ओर”
यूँ तो हम एक जगह रहते हुए ऊब जाते हैं कुछ दिन बाद जगह परिवर्तन हो या कहीं इधर उधर घूमने जाए आबो हवा बदल जाये तो मन अच्छा लगता है।
कभी कभी परिवर्तन से शरीर में भी बदलाव सोचने समझने में भी धीरे धीरे एकदम से अलग प्रभाव पड़ता है।
एक ही जगह वही कार्य को करते हुए भी समझने की शक्ति खत्म होने लगती है और मन भी नकारात्मक विचारों से ओत प्रोत हो जाता है बहुत सी दृष्टिकोण से नजरिये से देखा जाए तो समय के साथ साथ परिवर्तन आबो हवाओं में बदलाव जरूरी होता है।
कभी कभी कार्यभार संभालने के बाद हम थकान महसूस करते हैं और लगता है कि अब कुछ नया मोड़ नई दिशा नए पड़ाव की ओर कुछ बदलाव लाया जाए ताकि फिर से नई ऊर्जा शक्ति मिले।
अंदर से स्फूर्ति आ जाये उसके लिए परिवर्तन करना जरूरी होता है। कहीं भी ज्यादा देर तक रहते हुए मन मे ऊब या खीज सी उत्पन्न होने लगती है इसके अलावा काम करते हुए कुछ देर विश्राम या अंतराल भी होना चाहिए ताकि शरीर कुछ देर के लिए नई ऊर्जा ग्रहण कर नए पड़ाव की ओर मंजिल तय करने के लिए आगे कदम बढ़ाए ।
नए पड़ाव की ओर जाने के लिए बहुत सी दिक्कतों का भी सामना करना पड़ता है लेकिन कुछ पलों बाद सुकून मिलता है राहत मिलती है क्योंकि हर समय काम की अधिकता में कुछ सूझता नही है। चिड़चिड़ापन आने लगता है गुस्सा भी आता है कई बार समझ नही आता है हम क्या करें क्या नही क्यों इतना परिश्रम करने के बाद भी अकेले परेशान रहते हैं।
इसका कारण है लगातार कार्य करने के बाद शरीर में ऊर्जा शक्ति कम होने लगती है और थकान महसूस होती है बहुत से कारणों को समझने के बाद भी कार्य करने के लिए जुटे रहते हैं लेकिन कुछ पल विश्राम या जगह परिवर्तन करने से शरीर भी नई दिशा की ओर आकर्षित हो अपने आपको जीवन में बदलाव के बाद ही अच्छा महसूस करते हैं।
परिवर्तन ही गति का नियम है और गति को बदलने के लिए कुछ देर थमना पड़ेगा वरना चलते चलते कभी एकदम से रूक गए तो मुश्किलें खड़ी हो जाएगी।
जीवन में कुछ समय बाद बदलावों को लाना जरूरी है क्योंकि बदलते समय में अपने आपको ढालना भी बेहद जरूरी है।
समय व विपरीत परिस्थितियों का प्रभाव पड़ता है अपने आपको समय के ढालने का तरीका अपनाया जाना चाहिए।
शशिकला व्यास ✍
जय श्री राधेय जय श्री कृष्णा 🌹

Language: Hindi
191 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अतीत कि आवाज
अतीत कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
6) जाने क्यों
6) जाने क्यों
पूनम झा 'प्रथमा'
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
प्रेमदास वसु सुरेखा
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
Phool gufran
World Books Day
World Books Day
Tushar Jagawat
यह मौसम और कुदरत के नज़ारे हैं।
यह मौसम और कुदरत के नज़ारे हैं।
Neeraj Agarwal
प्यार जताने के सभी,
प्यार जताने के सभी,
sushil sarna
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
Bhupendra Rawat
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
Suryakant Dwivedi
हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी
हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी
gurudeenverma198
कहानी घर-घर की
कहानी घर-घर की
Brijpal Singh
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
5 हिन्दी दोहा बिषय- विकार
5 हिन्दी दोहा बिषय- विकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आओ प्रिय बैठो पास...
आओ प्रिय बैठो पास...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सरकार बिक गई
सरकार बिक गई
साहित्य गौरव
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
Sonu sugandh
■ सियासी बड़बोले...
■ सियासी बड़बोले...
*Author प्रणय प्रभात*
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
Kanchan Khanna
तोड़ डालो ये परम्परा
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD CHAUHAN
शादी की अंगूठी
शादी की अंगूठी
Sidhartha Mishra
धूतानां धूतम अस्मि
धूतानां धूतम अस्मि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2650.पूर्णिका
2650.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
Manisha Manjari
गरीबी……..
गरीबी……..
Awadhesh Kumar Singh
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Dr.Priya Soni Khare
*मैं, तुम और हम*
*मैं, तुम और हम*
sudhir kumar
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
Soniya Goswami
*कविवर रमेश कुमार जैन की ताजा कविता को सुनने का सुख*
*कविवर रमेश कुमार जैन की ताजा कविता को सुनने का सुख*
Ravi Prakash
**मन में चली  हैँ शीत हवाएँ**
**मन में चली हैँ शीत हवाएँ**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...