Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

परिंदा

खुश किस्मत आजाद परिंदा
बेघर पर आबाद परिंदा
आसमान में उड़ने वाला
सबको आता याद परिंदा
पिंजरे में कोई कैद ना करना
करता है फरियाद परिंदा
भोर का तारा ज्यों ही निकले
कहता है सुप्रभात परिंदा
दिन भर इधर-उधर उड़कर यूॅ॑
करता है मुलाकात परिंदा
सांझ ढ़ले तब नीड़ में आकर
इठलाता सबके साथ परिंदा
फुदक-फुदक कर दाना चुगता
नहीं देखता स्वाद परिंदा
कल की फ़िक्र न आज की चिंता
नहीं रखता जज्बात परिंदा
हरे पेड़ पर वह बना घोंसला
करता है उन्माद परिंदा
पेड़ लगाओ सब पेड़ बचाओ
कहता ‘V9द’ आज परिंदा

2 Likes · 141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
*सुवासित हैं दिशाऍं सब, सुखद आभास आया है(मुक्तक)*
*सुवासित हैं दिशाऍं सब, सुखद आभास आया है(मुक्तक)*
Ravi Prakash
रिश्ते वक्त से पनपते है और संवाद से पकते है पर आज कल ना रिश्
रिश्ते वक्त से पनपते है और संवाद से पकते है पर आज कल ना रिश्
पूर्वार्थ
2609.पूर्णिका
2609.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ प्रभात चिंतन ...
■ प्रभात चिंतन ...
*Author प्रणय प्रभात*
फुटपाथ की ठंड
फुटपाथ की ठंड
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
ऋतुराज
ऋतुराज
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
गरीबी की उन दिनों में ,
गरीबी की उन दिनों में ,
Yogendra Chaturwedi
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Sampada
"आशा" की कुण्डलियाँ"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
नव प्रबुद्ध भारती
नव प्रबुद्ध भारती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जो भूल गये हैं
जो भूल गये हैं
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
Pardushan
Pardushan
ASHISH KUMAR SINGH
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
Kanchan Khanna
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
VINOD CHAUHAN
क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,
क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,
Chandrakant Sahu
आजादी..
आजादी..
Harminder Kaur
"वो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
*तुम  हुए ना हमारे*
*तुम हुए ना हमारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खुली किताब सी लगती हो
खुली किताब सी लगती हो
Jitendra Chhonkar
" कविता और प्रियतमा
DrLakshman Jha Parimal
मेरी दोस्ती मेरा प्यार
मेरी दोस्ती मेरा प्यार
Ram Krishan Rastogi
एक मशाल तो जलाओ यारों
एक मशाल तो जलाओ यारों
नेताम आर सी
मंगल मूरत
मंगल मूरत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
****मतदान करो****
****मतदान करो****
Kavita Chouhan
रिश्तों की सिलाई अगर भावनाओ से हुई हो
रिश्तों की सिलाई अगर भावनाओ से हुई हो
शेखर सिंह
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...