Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )

परवरिश की उड़ान

माँ कभी नहीं मरती
वो तो सिर्फ
धरती से…
आकाश हो जाती है,
अपनी परवरिश की
उड़ान देखने के लिए….
– क्षमा उर्मिला
( LOVE YOU MAA….❤🙏🌸🙏)

2 Likes · 1 Comment · 78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कामयाबी का
कामयाबी का
Dr fauzia Naseem shad
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जो जुल्फों के साये में पलते हैं उन्हें राहत नहीं मिलती।
जो जुल्फों के साये में पलते हैं उन्हें राहत नहीं मिलती।
Phool gufran
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
प्रेमदास वसु सुरेखा
कुन का महल
कुन का महल
Satish Srijan
हाँ, वह लड़की ऐसी थी
हाँ, वह लड़की ऐसी थी
gurudeenverma198
काँच और पत्थर
काँच और पत्थर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
" वो क़ैद के ज़माने "
Chunnu Lal Gupta
सिद्धत थी कि ,
सिद्धत थी कि ,
ज्योति
गीतिका/ग़ज़ल
गीतिका/ग़ज़ल
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
ले बुद्धों से ज्ञान
ले बुद्धों से ज्ञान
Shekhar Chandra Mitra
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
Vinit kumar
सजल नयन
सजल नयन
Dr. Meenakshi Sharma
जिस आँगन में बिटिया चहके।
जिस आँगन में बिटिया चहके।
लक्ष्मी सिंह
इक चितेरा चांद पर से चित्र कितने भर रहा।
इक चितेरा चांद पर से चित्र कितने भर रहा।
umesh mehra
गज़रा
गज़रा
Alok Saxena
सत्य का संधान
सत्य का संधान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बाल कविता: मूंगफली
बाल कविता: मूंगफली
Rajesh Kumar Arjun
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ बात सब पर लागू। नेताओं पर भी।।
■ बात सब पर लागू। नेताओं पर भी।।
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-19💐
💐अज्ञात के प्रति-19💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम ही तुम हो
तुम ही तुम हो
मानक लाल मनु
सत्य की खोज में।
सत्य की खोज में।
Taj Mohammad
हम और तुम
हम और तुम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"बिना पहचान के"
Dr. Kishan tandon kranti
अगर मुझे तड़पाना,
अगर मुझे तड़पाना,
Dr. Man Mohan Krishna
करीब हो तुम मगर
करीब हो तुम मगर
Surinder blackpen
अपनी अपनी सोच
अपनी अपनी सोच
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
कवि दीपक बवेजा
दोस्ती
दोस्ती
Shashi Dhar Kumar
Loading...