Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Nov 2023 · 1 min read

परम तत्व का हूँ अनुरागी

परम तत्व का हूँ अनुरागी
ना पद मद मुद्रा परित्यागी,परम तत्व का पर अनुरागी।
इस जग का इतिहास रहा है,चित्त चाहत का ग्रास रहा है।
अभिलाषा अकराल गहन है,मन है चंचल दास रहा है।
सरल नहीं भव सागर गाथा, मूलतत्व की जटिल है काथा।
परम ब्रह्म चिन्हित ना आशा, किंतु मैं तो रहा हीं प्यासा।
मृगतृष्णा सा मंजर जग का,अहंकार खंजर सम रग का।
अक्ष समक्ष है कंटक मग का, किन्तु मैं कंट भंजक पग का।
पोथी ज्ञान मन मंडित करता,अभिमान चित्त रंजित करता।
जगत ज्ञान मन व्यंजित करता,आत्मज्ञान भ्रम खंडित करता।
हर क्षण हूँ मैं धन का लोभी,चित्त का वसन है तन का भोगी।
ये भी सच अभिलाषी पद का ,जानूं मद क्षण भंगुर जग का।
पद मद हेतु श्रम करता हूँ,सर्व निरर्थक भ्रम करता हूँ।
जग में हूँ ना जग वैरागी ,पर जग भ्रम खंडन का रागी।
देहाशक्त मैं ना हूँ त्यागी,परम तत्व का पर अनुरागी।

अजय अमिताभ सुमन

2 Likes · 196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाल कविता: मुन्ने का खिलौना
बाल कविता: मुन्ने का खिलौना
Rajesh Kumar Arjun
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
2568.पूर्णिका
2568.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक शाम ठहर कर देखा
एक शाम ठहर कर देखा
Kunal Prashant
महापुरुषों की सीख
महापुरुषों की सीख
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
कवि दीपक बवेजा
धार्मिकता और सांप्रदायिकता / MUSAFIR BAITHA
धार्मिकता और सांप्रदायिकता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कर्म ही हमारे जीवन...... आईना
कर्म ही हमारे जीवन...... आईना
Neeraj Agarwal
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
💐प्रेम कौतुक-197💐
💐प्रेम कौतुक-197💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिलरुबा जे रहे
दिलरुबा जे रहे
Shekhar Chandra Mitra
परिपक्वता
परिपक्वता
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
नैन फिर बादल हुए हैं
नैन फिर बादल हुए हैं
Ashok deep
परेशानियों से न घबराना
परेशानियों से न घबराना
Vandna Thakur
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दर्द अपना है
दर्द अपना है
Dr fauzia Naseem shad
परिस्थितीजन्य विचार
परिस्थितीजन्य विचार
Shyam Sundar Subramanian
ना चाहते हुए भी रोज,वहाँ जाना पड़ता है,
ना चाहते हुए भी रोज,वहाँ जाना पड़ता है,
Suraj kushwaha
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
दुष्यन्त 'बाबा'
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
* धरा पर खिलखिलाती *
* धरा पर खिलखिलाती *
surenderpal vaidya
सूर्य के ताप सी नित जले जिंदगी ।
सूर्य के ताप सी नित जले जिंदगी ।
Arvind trivedi
#लघुकथा :--
#लघुकथा :--
*Author प्रणय प्रभात*
*होली पर बनिए सदा, महामूर्ख सम्राट (कुंडलिया)*
*होली पर बनिए सदा, महामूर्ख सम्राट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
Anil Mishra Prahari
25 , *दशहरा*
25 , *दशहरा*
Dr Shweta sood
I guess afterall, we don't search for people who are exactly
I guess afterall, we don't search for people who are exactly
पूर्वार्थ
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
कवि रमेशराज
कलेजा फटता भी है
कलेजा फटता भी है
Paras Nath Jha
@The electant mother
@The electant mother
Ms.Ankit Halke jha
Loading...