Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2024 · 1 min read

परमूल्यांकन की न हो

परमूल्यांकन की न हो
किसी से कभी अपेक्षा ।
स्वयं को पहचानने की हो
जो दृष्टि आपकी ।।

रिक्त न हो मन जब
तेरा विषयों से ।
कैसी पूजा फिर कैसी
इबादत आपकी ॥

सम्बन्धों में कभी न हो
कलह, कलुषता ।
कर्तव्यों के प्रति हो जो
निष्ठा आपकी ।।

जीवन यात्रा में सन्तुष्टि
संभव हो फिर ।
सबकी प्रसन्नता में हो
जो प्रसन्नता आपकी ।।

परनिंदा कभी किसी की
कर न पाओ।
अपने दोषों पर भी हो
जो दृष्टि आपकी ।।
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
4 Likes · 105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
#आमंत्रित_आपदा
#आमंत्रित_आपदा
*Author प्रणय प्रभात*
"प्रेम रोग"
Dr. Kishan tandon kranti
छल
छल
Aman Kumar Holy
" आज चाँदनी मुस्काई "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
भूख से लोग
भूख से लोग
Dr fauzia Naseem shad
"भाभी की चूड़ियाँ"
Ekta chitrangini
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
Anand Kumar
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
जीवन की गाड़ी
जीवन की गाड़ी
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
International Self Care Day
International Self Care Day
Tushar Jagawat
आग और पानी 🙏
आग और पानी 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बड़ा काफ़िर
बड़ा काफ़िर
हिमांशु Kulshrestha
आत्मीय मुलाकात -
आत्मीय मुलाकात -
Seema gupta,Alwar
कलम की वेदना (गीत)
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
पूर्वार्थ
शायर तो नहीं
शायर तो नहीं
Bodhisatva kastooriya
मुझसे मिलने में तुम्हें,
मुझसे मिलने में तुम्हें,
Dr. Man Mohan Krishna
आजकल का मानव
आजकल का मानव
Anamika Tiwari 'annpurna '
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
2430.पूर्णिका
2430.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हिंदी गजल
हिंदी गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अलिकुल की गुंजार से,
अलिकुल की गुंजार से,
sushil sarna
सीख बुद्ध से ज्ञान।
सीख बुद्ध से ज्ञान।
Buddha Prakash
जरुरी है बहुत जिंदगी में इश्क मगर,
जरुरी है बहुत जिंदगी में इश्क मगर,
शेखर सिंह
*** कुछ पल अपनों के साथ....! ***
*** कुछ पल अपनों के साथ....! ***
VEDANTA PATEL
सबके सामने रहती है,
सबके सामने रहती है,
लक्ष्मी सिंह
"प्रेम -मिलन '
DrLakshman Jha Parimal
" मेरा राज मेरा भगवान है "
Dr Meenu Poonia
आना ओ नोनी के दाई
आना ओ नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...