Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2023 · 1 min read

पथ पर आगे

** गीतिका **
~~
पथ पर आगे बढ़ते बढ़ते, आते बहुत उतार चढ़ाव।
पड़ जाते पांवों में छाले, पीड़ा पहुँचाते हैं घाव।

वृक्ष हमें देते रहते हैं, शीतल प्रियकर छाया खूब।
करें संरक्षण इनका हम सब, स्नेह भरा कर लें बर्ताव।

अपनेपन का भाव रखें हम, और सहज कर लें व्यवहार।
क्षणिक लाभ की खातिर हमको, मन में रखना नहीं दुराव।

हर पल आस विजय की लेकर, कर में जलता दीपक थाम।
अति भीषणकर तूफानों में, पार लगेगी अपनी नाव।

रिमझिम शीतल वर्षा ऋतु में, मन में जग जाता है प्यार।
आशा के नव पुष्प खिलें जब, खत्म नहीं होते हैं चाव।

सबके हित में ही अपना हित, मानें यह जीवन का सत्य।
प्रकृति का करना है पोषण, करुणामय हो मन के भाव।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ०५/०६/२०२३

1 Like · 375 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
चुप्पी
चुप्पी
डी. के. निवातिया
भजन - माॅं नर्मदा का
भजन - माॅं नर्मदा का
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
|नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
|नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
बुंदेली दोहा-सुड़ी (इल्ली)
बुंदेली दोहा-सुड़ी (इल्ली)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अनेकता में एकता 🇮🇳🇮🇳
अनेकता में एकता 🇮🇳🇮🇳
Madhuri Markandy
उसके नाम के 4 हर्फ़ मेरे नाम में भी आती है
उसके नाम के 4 हर्फ़ मेरे नाम में भी आती है
Madhuyanka Raj
ଆତ୍ମ ଦର୍ଶନ
ଆତ୍ମ ଦର୍ଶନ
Bidyadhar Mantry
नर नारायण
नर नारायण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
मुझे अच्छी नहीं लगती
मुझे अच्छी नहीं लगती
Dr fauzia Naseem shad
चौमासा विरहा
चौमासा विरहा
लक्ष्मी सिंह
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
-शुभ स्वास्तिक
-शुभ स्वास्तिक
Seema gupta,Alwar
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
सत्य क्या है ?
सत्य क्या है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
कृष्णकांत गुर्जर
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
उमेश बैरवा
पैगाम
पैगाम
Shashi kala vyas
एक महिला की उमर और उसकी प्रजनन दर उसके शारीरिक बनावट से साफ
एक महिला की उमर और उसकी प्रजनन दर उसके शारीरिक बनावट से साफ
Rj Anand Prajapati
आफ़ताब
आफ़ताब
Atul "Krishn"
बाल चुभे तो पत्नी बरसेगी बन गोला/आकर्षण से मार कांच का दिल है भामा
बाल चुभे तो पत्नी बरसेगी बन गोला/आकर्षण से मार कांच का दिल है भामा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अगर मेघों से धरती की, मुलाकातें नहीं होतीं (मुक्तक)
अगर मेघों से धरती की, मुलाकातें नहीं होतीं (मुक्तक)
Ravi Prakash
2329.पूर्णिका
2329.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कहने को हर हाथ में,
कहने को हर हाथ में,
sushil sarna
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
Chunnu Lal Gupta
जुगाड़
जुगाड़
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बस हौसला करके चलना
बस हौसला करके चलना
SATPAL CHAUHAN
Loading...