Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

पथिक आओ ना

बंद दरवाजा
हौले हौले से
खुल रहा है
उसके पीछे से
झांकती प्रतीक्षारत
दो व्याकुल आँखे
कह रही है
पथिक आओ ना

तुम्हारे साथ बैठकर
कुछ सुख दुःख
बाँटना चाहती हू
बिना कोई उम्मीद के
निश्छल कविता सुनना
और सुनाना चाहती हूँ
सूखे ह्रदय में पल्ल्वित
प्रेम के पौधे को
सींच जाओ ना
पथिक आओ ना

तुम तो सब जानते हो
जानकर भी खुद को अनजान
क्यों मानते हो
विरह की वेदना को समझो
बिन कहे को जान जाओ ना
पथिक आओ ना

Language: Hindi
145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
*याद है  हमको हमारा  जमाना*
*याद है हमको हमारा जमाना*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
Rituraj shivem verma
कमबख़्त इश़्क
कमबख़्त इश़्क
Shyam Sundar Subramanian
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
सुस्ता लीजिये - दीपक नीलपदम्
सुस्ता लीजिये - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"दयानत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
Sanjay ' शून्य'
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कल जो रहते थे सड़क पर
कल जो रहते थे सड़क पर
Meera Thakur
कविता
कविता
Neelam Sharma
नये अमीर हो तुम
नये अमीर हो तुम
Shivkumar Bilagrami
फकीर
फकीर
Dr. Kishan tandon kranti
कलियुग के प्रथम चरण का आरंभ देखिये
कलियुग के प्रथम चरण का आरंभ देखिये
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*देखो ऋतु आई वसंत*
*देखो ऋतु आई वसंत*
Dr. Priya Gupta
समय के साथ ही हम है
समय के साथ ही हम है
Neeraj Agarwal
तुम अभी आना नहीं।
तुम अभी आना नहीं।
Taj Mohammad
*नहीं जब धन हमारा है, तो ये अभिमान किसके हैं (मुक्तक)*
*नहीं जब धन हमारा है, तो ये अभिमान किसके हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
इतनी भी
इतनी भी
Santosh Shrivastava
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
♥️पिता♥️
♥️पिता♥️
Vandna thakur
समय की धारा रोके ना रुकती,
समय की धारा रोके ना रुकती,
Neerja Sharma
सफल हस्ती
सफल हस्ती
Praveen Sain
समय बदल रहा है..
समय बदल रहा है..
ओनिका सेतिया 'अनु '
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
सत्य कुमार प्रेमी
लौट चलें🙏🙏
लौट चलें🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
पूर्वार्थ
Loading...