Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2016 · 1 min read

पत्नी पीढ़ा

मोदी जी ने दिया देश को सबसे बड़ा उपहार ।
बंद कर दिया नोट अचानक पान्च्सौ और हजार ॥
अफरा तफरी का आलम है हर घर सोच विचार ।
कैसे अब मेरे नोटो की नाव लगेगी पार ॥
सालों से धन जोड़ रही थी आँख बचा के यार ।
किंतु अब पकड़ी जाऊँगी बचना है बेकार ॥
काले धन की खातिर चाल चली मोदी ने यार ।
पकड़ी गई पत्नी हर घर में है बिल्कुल लाचार ॥
ग्रहड़ी का यह दुःख मोदी जी कहना है बेकार ।
देश की खातिर सह जायेंगे पीढ़ा तो है अपरम्पार ॥

विजय बिज़नोरी

Language: Hindi
3 Likes · 1 Comment · 588 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
Suryakant Dwivedi
मंजिल की तलाश में
मंजिल की तलाश में
Praveen Sain
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"चापलूसी"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मन अपने बसाओ तो
मन अपने बसाओ तो
surenderpal vaidya
!! मन रखिये !!
!! मन रखिये !!
Chunnu Lal Gupta
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
Aadarsh Dubey
बड़ी मुश्किल से लगा दिल
बड़ी मुश्किल से लगा दिल
कवि दीपक बवेजा
देशज से परहेज
देशज से परहेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"बचपने में जानता था
*Author प्रणय प्रभात*
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
Dr. Man Mohan Krishna
सूझ बूझ
सूझ बूझ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
मौसम बेईमान है आजकल
मौसम बेईमान है आजकल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोई शाम आयेगी मेरे हिस्से
कोई शाम आयेगी मेरे हिस्से
Amit Pandey
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आकाश भेद पथ पर पहुँचा, आदित्य एल वन सूर्ययान।
आकाश भेद पथ पर पहुँचा, आदित्य एल वन सूर्ययान।
जगदीश शर्मा सहज
শহরের মেঘ শহরেই মরে যায়
শহরের মেঘ শহরেই মরে যায়
Rejaul Karim
प्यार ~ व्यापार
प्यार ~ व्यापार
The_dk_poetry
2668.*पूर्णिका*
2668.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
शिव प्रताप लोधी
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
Shashi kala vyas
-पहले आत्मसम्मान फिर सबका सम्मान
-पहले आत्मसम्मान फिर सबका सम्मान
Seema gupta,Alwar
प्रेम.......................................................
प्रेम.......................................................
Swara Kumari arya
वेलेंटाइन डे शारीरिक संबंध बनाने की एक पूर्व नियोजित तिथि है
वेलेंटाइन डे शारीरिक संबंध बनाने की एक पूर्व नियोजित तिथि है
Rj Anand Prajapati
प्राणदायिनी वृक्ष
प्राणदायिनी वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
*अहिल्या (कुंडलिया)*
*अहिल्या (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
माँ शारदे...
माँ शारदे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मोबाइल के भक्त
मोबाइल के भक्त
Satish Srijan
Loading...