Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2023 · 1 min read

पत्नी की पहचान

#दिनांक:- 27/11/2023
#शीर्षक:- पत्नी की पहचान है।

यदि पति ईश्वर है तो पत्नी देवी शक्ति स्वरूपा है,
पति यदि बादल है,पत्नी हरित वसुधा रूपा है ।

है पति यदि समन्दर कोई,पत्नी कल-कल बहती धारा ,
है पति यदि पथ,तो पत्नी खुशमिजाज मंजिल का सहारा।

पति यदि ॠतु है तो पत्नी भी ऋतु-धारा ,
पति यदि चांद धवल है तो पत्नी मधुर चाँदनी श्रृंगारित सितारा।

पति यदि है प्रेम की करवट , तो पत्नी जी प्रेम की अंगड़ाई है,
पति यदि मधुरस है तो पत्नी मदहोश नशीली गहराई है।

पति यदि विरत है,तो पत्नी अनुरक्त है सिद्धि ,
पति यदि सोलह सावन व्रत है तो पत्नी प्रारब्ध की मंजूषा की रिद्धि।

पति यदि खुशी है तो पत्नी चैन-सुकून है,
पति यदि जज्बात प्रबल है तो पत्नी प्रेम-फव्वारा जून है।

पति यदि हैं कोरे कागज तो पत्नी इन्दधनुषी रंग है ,
पति यदि हुई स्नेह-वर्षा तो पत्नी सीप की मोती-सी प्रेम रंग है ।

पति यदि विश्वास है तो पत्नी समर्पण है ,
पति यदि बस प्यार इज्ज़त दे तो पत्नी का सर्वस्व अर्पण है ।

पति-पत्नी मात्र नाम नहीं प्रेमिल परिवार और समाज है ,
सदियो से अस्तित्व था,रहेगा और आज है।

पति विशेषता जितनी उतनी विशेषण पत्नी में निहित समान है ,
पति नाम बस नाम नहीं , पत्नी की पहचान है ।

शास्त्रों में सात जन्मों का मिलान है
पत्नी नाम पति-जीवन का संविधान है,
चले मिलकर तो जीवन खुशहाल जीवंतशील,
टकराव भी, तकरार भी इस रिश्ते का विधान है |

(स्वरचित)
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बड़ा हथियार
बड़ा हथियार
Satish Srijan
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
शक्ति राव मणि
When you think it's worst
When you think it's worst
Ankita Patel
सदैव खुश रहने की आदत
सदैव खुश रहने की आदत
Paras Nath Jha
भागअ मत, दुनिया बदलअ
भागअ मत, दुनिया बदलअ
Shekhar Chandra Mitra
नियत
नियत
Shutisha Rajput
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Kavita Chouhan
Hum mom ki kathputali to na the.
Hum mom ki kathputali to na the.
Sakshi Tripathi
*
*"रक्षाबन्धन"* *"काँच की चूड़ियाँ"*
Radhakishan R. Mundhra
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ व्यंग्य / मूर्धन्य बनाम मूढ़धन्य...?
■ व्यंग्य / मूर्धन्य बनाम मूढ़धन्य...?
*Author प्रणय प्रभात*
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
श्री कृष्ण का चक्र चला
श्री कृष्ण का चक्र चला
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पापी करता पाप से,
पापी करता पाप से,
sushil sarna
देखा है जब से तुमको
देखा है जब से तुमको
Ram Krishan Rastogi
नरम दिली बनाम कठोरता
नरम दिली बनाम कठोरता
Karishma Shah
💐प्रेम कौतुक-537💐
💐प्रेम कौतुक-537💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*कोई किसी को न तो सुख देने वाला है और न ही दुःख देने वाला है
*कोई किसी को न तो सुख देने वाला है और न ही दुःख देने वाला है
Shashi kala vyas
*जलयान (बाल कविता)*
*जलयान (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जीवन का लक्ष्य महान
जीवन का लक्ष्य महान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"जिन्दाबाद"
Dr. Kishan tandon kranti
बातें
बातें
Sanjay ' शून्य'
कुछ पल साथ में आओ हम तुम बिता लें
कुछ पल साथ में आओ हम तुम बिता लें
Pramila sultan
प्रेम पत्र बचाने के शब्द-व्यापारी
प्रेम पत्र बचाने के शब्द-व्यापारी
Dr MusafiR BaithA
बुझे अलाव की
बुझे अलाव की
Atul "Krishn"
कुछ लोग
कुछ लोग
Shweta Soni
तू शौक से कर सितम ,
तू शौक से कर सितम ,
शेखर सिंह
3201.*पूर्णिका*
3201.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आंखो ने क्या नहीं देखा ...🙏
आंखो ने क्या नहीं देखा ...🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...