Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2016 · 1 min read

पत्थर हूँ नींव का ..नींव में ही रहूँगा

दो मुक्तक ….
1..
पत्थर हूँ नींव का ,नींव में ही रहूँगा
मेरी गौरव गाथा मैं खुद ही कहूँगा
इमारतें मेरे दम पर ही खड़ी रहती
पुण्य किया है सदा नींव में लगूँगा

2..
मुश्किल से बूँद बूँद से घड़ा है भरा
डरता हूँ कहीं छलक न जाये जरा
भविष्य सुधारने के चक्कर में पड़
वर्तमान को तो हमेशा ताक में धरा

“दिनेश”

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 2206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुरु और गुरू में अंतर
गुरु और गुरू में अंतर
Subhash Singhai
शातिर दुनिया
शातिर दुनिया
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
🌹 *गुरु चरणों की धूल* 🌹
🌹 *गुरु चरणों की धूल* 🌹
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
2937.*पूर्णिका*
2937.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
युद्ध घोष
युद्ध घोष
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Inspiring Poem
Inspiring Poem
Saraswati Bajpai
कुछ मेरा तो कुछ तो तुम्हारा जाएगा
कुछ मेरा तो कुछ तो तुम्हारा जाएगा
अंसार एटवी
■ ज्वलंत सवाल
■ ज्वलंत सवाल
*प्रणय प्रभात*
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
Kailash singh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
छोड़ चली तू छोड़ चली
छोड़ चली तू छोड़ चली
gurudeenverma198
*पापी पेट के लिए *
*पापी पेट के लिए *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़िंदगी की अहमियत
ज़िंदगी की अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
अमिट सत्य
अमिट सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
Kumar lalit
घाघरा खतरे के निशान से ऊपर
घाघरा खतरे के निशान से ऊपर
Ram Krishan Rastogi
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
shabina. Naaz
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
सफलता का सोपान
सफलता का सोपान
Sandeep Pande
दोहावली
दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
शमशान की राख देखकर मन में एक खयाल आया
शमशान की राख देखकर मन में एक खयाल आया
शेखर सिंह
ना समझ आया
ना समझ आया
Dinesh Kumar Gangwar
युवा दिवस
युवा दिवस
Tushar Jagawat
*एक व्यक्ति के मर जाने से, कहॉं मरा संसार है (हिंदी गजल)*
*एक व्यक्ति के मर जाने से, कहॉं मरा संसार है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मेरा अभिमान
मेरा अभिमान
Aman Sinha
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
Sahil Ahmad
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
घूँघट के पार
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
रेल दुर्घटना
रेल दुर्घटना
Shekhar Chandra Mitra
Loading...