Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2023 · 1 min read

पत्थर का सफ़ीना भी, तैरता रहेगा अगर,

पत्थर का सफ़ीना भी, तैरता रहेगा अगर,
तैरने के फलसफे को, दुरुस्त रखा जाये।

मुनासिब है, ऊंचाइयों पर जाकर रुके कोई,
उड़ने का हुनर अगर, बाज से सीखा जाये ।

कोई हुनर में तब तलक कैसे, माहिर हो,
पूरी सिद्दत से जब तलक ना, सीखा जाये।

“नील पदम् ”

5 Likes · 180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
अब तो आओ न
अब तो आओ न
Arti Bhadauria
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
Ajay Kumar Vimal
* भैया दूज *
* भैया दूज *
surenderpal vaidya
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विलोमात्मक प्रभाव~
विलोमात्मक प्रभाव~
दिनेश एल० "जैहिंद"
वफा से वफादारो को पहचानो
वफा से वफादारो को पहचानो
goutam shaw
सितम तो ऐसा कि हम उसको छू नहीं सकते,
सितम तो ऐसा कि हम उसको छू नहीं सकते,
Vishal babu (vishu)
#drarunkumarshastei
#drarunkumarshastei
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अदाकारी
अदाकारी
Suryakant Dwivedi
The Lost Umbrella
The Lost Umbrella
Sridevi Sridhar
तुम नहीं बदले___
तुम नहीं बदले___
Rajesh vyas
कहाँ है!
कहाँ है!
Neelam Sharma
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
gurudeenverma198
*विश्वामित्र नमन तुम्हें : कुछ दोहे*
*विश्वामित्र नमन तुम्हें : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
मीनाकुमारी
मीनाकुमारी
Dr. Kishan tandon kranti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चंचल मन
चंचल मन
Dinesh Kumar Gangwar
Do you know ??
Do you know ??
Ankita Patel
तो शीला प्यार का मिल जाता
तो शीला प्यार का मिल जाता
Basant Bhagawan Roy
पसंद प्यार
पसंद प्यार
Otteri Selvakumar
चौथ मुबारक हो तुम्हें शुभ करवा के साथ।
चौथ मुबारक हो तुम्हें शुभ करवा के साथ।
सत्य कुमार प्रेमी
सत्य = सत ( सच) यह
सत्य = सत ( सच) यह
डॉ० रोहित कौशिक
गाय
गाय
Vedha Singh
There are seasonal friends. We meet them for just a period o
There are seasonal friends. We meet them for just a period o
पूर्वार्थ
समकालीन हिंदी कविता का परिदृश्य
समकालीन हिंदी कविता का परिदृश्य
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■एक शेर और■
■एक शेर और■
*Author प्रणय प्रभात*
दोस्तों की कमी
दोस्तों की कमी
Dr fauzia Naseem shad
बेटियां
बेटियां
Neeraj Agarwal
कभी सुलगता है, कभी उलझता  है
कभी सुलगता है, कभी उलझता है
Anil Mishra Prahari
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
Dr Tabassum Jahan
Loading...