Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2023 · 1 min read

पतंग

भरोसे पे तेरे…
बेखौफ उड़ती रही।
खुले आकाश में,
हवाओं से लड़ती रही।
तेरे हौसलों की ढील पर,
मगर.. बढ़ती रही !
ऊँचाइयाँ नभ छूती रहीं।
टूटा था विश्वास का धागा जो,
लुट गयी सरेआम,
और..लुटती रही ।
यूँ ही जीवन भर…
रंगीनियांँ लिए।
जिसने भी लूटा…
उसने उड़ाया मजाक सा।
तेरे बाँधे हुए कन्नो पर ।
मैं मचलती रही।
लुटती रही..ता-उम्र।
विश्वास की फितरत पर !
मगर हर बार छली गई!
मैं कटी.. पतंग जो…
मजबूत काँधों के…
मोहक..ऐतबार पर।
किस्मत की राह पर।
छली गई, छली गई!!
हर बार.. छली गई!!
मैं पतंग सी..हूँ कौन!!

__अलका गुप्ता ‘भारती’__

Language: Hindi
1 Like · 1267 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*Colors Of Experience*
*Colors Of Experience*
Poonam Matia
तेरे होने का जिसमें किस्सा है
तेरे होने का जिसमें किस्सा है
shri rahi Kabeer
#आज_का_आह्वान
#आज_का_आह्वान
*Author प्रणय प्रभात*
दीप में कोई ज्योति रखना
दीप में कोई ज्योति रखना
Shweta Soni
तीर'गी  तू  बता  रौशनी  कौन है ।
तीर'गी तू बता रौशनी कौन है ।
Neelam Sharma
प्रेम
प्रेम
पंकज कुमार कर्ण
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
ओसमणी साहू 'ओश'
पंखों को मेरे उड़ान दे दो
पंखों को मेरे उड़ान दे दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिंदू धर्म की यात्रा
हिंदू धर्म की यात्रा
Shekhar Chandra Mitra
किसान
किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"कोहरा रूपी कठिनाई"
Yogendra Chaturwedi
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जी रहे है तिरे खयालों में
जी रहे है तिरे खयालों में
Rashmi Ranjan
जिंदगी तेरे कितने रंग, मैं समझ न पाया
जिंदगी तेरे कितने रंग, मैं समझ न पाया
पूर्वार्थ
भारत देश
भारत देश
लक्ष्मी सिंह
"दहेज"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
Bhupendra Rawat
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
*शक्तिपुंज यह नारी है (मुक्तक)*
*शक्तिपुंज यह नारी है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
चुनाव
चुनाव
Neeraj Agarwal
राखी सबसे पर्व सुहाना
राखी सबसे पर्व सुहाना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
Dr MusafiR BaithA
डर-डर से जिंदगी यूं ही खत्म हो जाएगी एक दिन,
डर-डर से जिंदगी यूं ही खत्म हो जाएगी एक दिन,
manjula chauhan
इस आकाश में अनगिनत तारे हैं
इस आकाश में अनगिनत तारे हैं
Sonam Puneet Dubey
*जी लो ये पल*
*जी लो ये पल*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सृष्टि का कण - कण शिवमय है।
सृष्टि का कण - कण शिवमय है।
Rj Anand Prajapati
न कल के लिए कोई अफसोस है
न कल के लिए कोई अफसोस है
ruby kumari
Loading...