Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2016 · 3 min read

पढ़कर कोई कलेक्टर तो बनना नहीं

कम्प्यूटर के दौर में हम जितनी तेजी से आगे बढ़ते जा रहे है, उतनी ही तेजी से हमारी शिक्षा के पारंपरिक तौर-तरीके व साधन हमसे दूर होते जा रहे है. बचपन में सरकंडे या बांस की एक पोर के लिए दिन भर भटकने या लाला की दुकान से 10 पैसे की एक पोर और 5 पैसे में स्याही की टिकिया खरीद लाने के बाद पहले कलम बनाने और स्याही की टिकिया को घोल कर कुछ नया करने की लालसा मन में जागती थी, वह आजकल कम्प्यूटर के कीबोर्ड पर कहां. पहले पेंसिल-कॉपी, स्लेट-बत्ती पर लिखते-लिखते जरूरी हो जाता था कि तख्ती पर लिखना, ताकि लेखन में सुधार हो, क्योंकि आपके लेखन से आपका व्यक्तित्व झलकता है. तख्ती पर लिखना और फिर उसको मिटाने के लिए चिकनी मिट्टी की जरूरत से अहसास होता था कि जिंदगी में कुछ कर गुजरने के लिए मेहनत बहुत जरूरी हो जाती है. लेकिन आजकल ऐसी चीजों की आवश्यकता ही नहीं होती, फिर लिखने के लिए आपके पास पेन के अलावा कम्प्यूटर जो उपलब्ध होता है और जब अपनी इच्छा पलक झपकते ही पूरी हो, तो मेहनत की क्या जरूरत. स्कूल के समय की एक और बात याद आती है, पहाड़े याद करना, जो आजकल शायद ही किसी बच्चे को सिखाए जाते हो. पहले गुणा-भाग करना हो, जोड़-घटाव, बगैर पहाड़े याद किए बिना गणित का कोई सवाल हल करना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन सा था. जिसने पहाड़े याद किए मान लीजिए, वह खुद कम्प्यूटर हो गया. लेकिन आजकल बच्चों के दिमाग पर पहाड़ों की जगह कैलकुलेटर ने अपना कब्जा जमा लिया है, जरा भी गणितीय सवालों को हल करना हो, तो कैलकुलैटर हाजिर है, जो कम्प्यूटर के साथ-साथ मोबाइल में भी मौजूद रहता है. अब खुद ही सोचिए हमने क्या किया, सभी कामों को करने के लिए जब हमारे सामने हर संसाधन उपलब्ध है, तो हम आलसी क्यों नहीं होंगे. अब न किसी को सरकंडे की पोर की जरूरत है और न ही स्याही टिकिया घोलने में समय लगाना पड़ता है. इसके साथ ही पहाड़ों को याद करने का तो सवाल ही पैदा नहीं होता. इन सबके परिणामस्वरूप दिमागी कसरत की तो बात ही भूल जाइए. जब दिमाग के पास कुछ करने के लिए बचा ही नहीं तो वह कही तो अपना समय लगाएगा ही, फिर चाहे खुराफत ही सही. और अब तो शिक्षा प्रणाली को इतना आसान बनाया जा रहा है कि फेल होने की गुजांइश ही नहीं बचती. पहले कम से कम फेल होने के डर से बच्चों में थोड़ा बहुत पढऩे की मजबूरी तो होती ही थी, लेकिन अब जब फेल ही नहीं होना तो क्या करना अपना दिमाग खराब करके. वैसे भी पढ़कर कोई कलेक्टर तो बनना नहीं है. अब तो सब कुछ पता है, इस देश में कैसे बहुत कम पढ़े-लिखे ज्यादा पढ़े-लिखों पर राज करते है. फिर हमको तो राज करना है, ना की किसी की चाकरी. कुल बात यह है कि हम अपनी पुरानी शिक्षा प्रणाली को दरकिनार करते हुए कैसे दावा करते है कि हम सबसे बेहतर होने की दिशा में प्रयास कर रहे है. नए अविष्कारों को महत्व मिलना चाहिए, लेकिन इतना भी नहीं कि उसको अपनाने की धुन में अपनी परम्पराएं और अपना अस्तित्व ही गुम हो जाएं.

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Comment · 556 Views
You may also like:
गुजरते हुए उस गली से
Kaur Surinder
"भैयादूज"
Dr Meenu Poonia
कवि का कवि से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जी उठती हूं...तड़प उठती हूं...
Seema 'Tu hai na'
सफ़र
Er.Navaneet R Shandily
शिशिर की रात
लक्ष्मी सिंह
शम्बूक हत्या! सत्य या मिथ्या?
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लोरी (Lullaby)
Shekhar Chandra Mitra
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
✍️जर्रे में रह जाऊँगा✍️
'अशांत' शेखर
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
निश्छल छंद विधान
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
किसी दिन
shabina. Naaz
'शशिधर'(डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
वादा करके चले गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रेम
Dr.Priya Soni Khare
पैसों के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
युवा भारत के जानो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अल्फाज़
Dr.S.P. Gautam
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
दुनिया में सबसे अच्छा यह अपना हिंदुस्तान है (गीत)
Ravi Prakash
तुम्हारी जुदाई ने।
Taj Mohammad
लकीरी की फ़कीरी
Satish Srijan
✍️न जाने वो कौन से गुनाहों की सज़ा दे रहा...
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कुछ शेर रफी के नाम ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
तेरे बिना ये ज़िन्दगी
Shivkumar Bilagrami
Writing Challenge- खाली (Empty)
Sahityapedia
“ अमिट संदेश ”
DrLakshman Jha Parimal
मूं खड़ो हूँ चुणावा म
gurudeenverma198
Loading...