Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2023 · 1 min read

पड़ते ही बाहर कदम, जकड़े जिसे जुकाम।

पड़ते ही बाहर कदम, जकड़े जिसे जुकाम।
कितने ही कर ले जतन, पाता नहीं मुकाम।।
© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

Language: Hindi
1 Like · 189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
*छप्पन पत्ते पेड़ के, हम भी उनमें एक (कुंडलिया)*
*छप्पन पत्ते पेड़ के, हम भी उनमें एक (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"अदृश्य शक्ति"
Ekta chitrangini
नानी का गांव
नानी का गांव
साहित्य गौरव
All your thoughts and
All your thoughts and
Dhriti Mishra
मैं  गुल  बना  गुलशन  बना  गुलफाम   बना
मैं गुल बना गुलशन बना गुलफाम बना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
रहो कृष्ण की ओट
रहो कृष्ण की ओट
Satish Srijan
......,,,,
......,,,,
शेखर सिंह
फेसबुक
फेसबुक
Neelam Sharma
हैप्पी न्यू ईयर 2024
हैप्पी न्यू ईयर 2024
Shivkumar Bilagrami
" हम तो हारे बैठे हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
मंजिल तक का संघर्ष
मंजिल तक का संघर्ष
Praveen Sain
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
Sanjay ' शून्य'
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मेहनती मोहन
मेहनती मोहन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पश्चाताप
पश्चाताप
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भोले नाथ है हमारे,
भोले नाथ है हमारे,
manjula chauhan
कुछ बातें ईश्वर पर छोड़ दें
कुछ बातें ईश्वर पर छोड़ दें
Sushil chauhan
बाबुल का घर तू छोड़ चली
बाबुल का घर तू छोड़ चली
gurudeenverma198
अगर दिल में प्रीत तो भगवान मिल जाए।
अगर दिल में प्रीत तो भगवान मिल जाए।
Priya princess panwar
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
लिखना है मुझे वह सब कुछ
लिखना है मुझे वह सब कुछ
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
life is an echo
life is an echo
पूर्वार्थ
2530.पूर्णिका
2530.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
लक्ष्मी सिंह
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं
मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं
कवि दीपक बवेजा
प्रेम
प्रेम
Acharya Rama Nand Mandal
Loading...