Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

पछतावे की अग्नि

क्यों हुए सुन,हाथ काले,
तू पाप किसके ढो रहा।
सद्कर्म कुकर्म में अंतर,
पहले क्यूँ न कर सका,
आज पछतावे की अग्नि,
में तू खुदको मानव झो रहा।
लाख समझाया पर न माना,
देखो अब दिल अब रो रहा।
कैसे अपना हाथ थामे,
कि घना है कोहरा।
हमने सोचा हमने तो,
जीत ली है बाज़ी,प्यार की।
ना समझ थे हम सुनो,
हां हम फकत थे मोहरा।
क्यों? धुंधला सी गई,
है अंबर की ये नीलम चादर
क्या चहूं ओर छाया,
है घना काला कोहरा ।
वातावरण-परिवेश पर,
ढक गई है परतें प्रदूषण की
नहीं रहा निज देश में,
अब धूंध का वो कोहरा।
आँखें हैं मजबूर सी,
और हृदय में टीस सी,
सोचते हैं बेबसी से,
है नीलम क्या हो रहा।
वायु दूषित,सांसे दूषित,
हुए दूषित विचार भी,
कुछ अलग नहीं सुन तू मानव,
खुद पाप अपना ढो रहा।
सारे रिश्तों पर है छाया,
दिखावे का नूतन कोहरा।
नीलम शर्मा✍️

Language: Hindi
1 Like · 37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भारत को निपुण बनाओ
भारत को निपुण बनाओ
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कैसी ये पीर है
कैसी ये पीर है
Dr fauzia Naseem shad
आत्मविश्वास
आत्मविश्वास
Anamika Tiwari 'annpurna '
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
बचपन में लिखते थे तो शब्द नहीं
बचपन में लिखते थे तो शब्द नहीं
VINOD CHAUHAN
उफ़ ये बेटियाँ
उफ़ ये बेटियाँ
SHAMA PARVEEN
ऊपर से मुस्कान है,अंदर जख्म हजार।
ऊपर से मुस्कान है,अंदर जख्म हजार।
लक्ष्मी सिंह
चाय ही पी लेते हैं
चाय ही पी लेते हैं
Ghanshyam Poddar
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
umesh mehra
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
किसान,जवान और पहलवान
किसान,जवान और पहलवान
Aman Kumar Holy
विचार पसंद आए _ पढ़ लिया कीजिए ।
विचार पसंद आए _ पढ़ लिया कीजिए ।
Rajesh vyas
धर्म आज भी है लोगों के हृदय में
धर्म आज भी है लोगों के हृदय में
Sonam Puneet Dubey
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
Ranjeet kumar patre
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
पूर्वार्थ
सरप्लस सुख / MUSAFIR BAITHA
सरप्लस सुख / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*बादल*
*बादल*
Santosh kumar Miri
देता है अच्छा सबक़,
देता है अच्छा सबक़,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
23/168.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/168.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कलेक्टर से भेंट
कलेक्टर से भेंट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
Keshav kishor Kumar
जिन स्वप्नों में जीना चाही
जिन स्वप्नों में जीना चाही
Indu Singh
"इश्क़ किसे कहते है?"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
उठो द्रोपदी....!!!
उठो द्रोपदी....!!!
Neelam Sharma
*छलने को तैयार है, छलिया यह संसार (कुंडलिया)*
*छलने को तैयार है, छलिया यह संसार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
ललकार भारद्वाज
यूं हाथ खाली थे मेरे, शहर में तेरे आते जाते,
यूं हाथ खाली थे मेरे, शहर में तेरे आते जाते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*युद्ध*
*युद्ध*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...