Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

पग मेरे नित चलते जाते।

पग मेरे नित चलते जाते।

बचपन गाता जैसे मधुकर
सुन्दर, सुखकर खुशियाँ भरकर,
जीवन की अविरल धारा में बेसुध हो हम बहते जाते
पग मेरे नित चलते जाते।

यौवन आया ले स्वर्ण – जाल
झूमे तरुवर जैसे विशाल,
उम्मीद लिए दो-नयनों के लघु दीप सदा जलते जाते
पग मेरे नित चलते जाते।

मधुरस रीता है खड़ी जरा
मन क्लांत, विकल, असमर्थ, डरा,
ढ़ल गई उम्र जैसे नभ के तारे अगणित ढ़लते जाते
पग मेरे नित चलते जाते।

है अंत सभी का मरघट पर
गंगा, यमुना, सरयू तट पर,
खुद को दिखला पर स्वप्नलोक जीवन भर हम छलते जाते।
पग मेरे नित चलते जाते।

अनिल मिश्र प्रहरी ।

Language: Hindi
1 Like · 65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
धनतेरस के अवसर पर ,
धनतेरस के अवसर पर ,
Yogendra Chaturwedi
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हँस लो! आज  दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
दुष्यन्त 'बाबा'
बदलते दौर में......
बदलते दौर में......
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
आप जिंदगी का वो पल हो,
आप जिंदगी का वो पल हो,
Kanchan Alok Malu
हमारा फ़र्ज
हमारा फ़र्ज
Rajni kapoor
महाप्रयाण
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
मक़रूज़ हूँ मैं
मक़रूज़ हूँ मैं
Satish Srijan
কি?
কি?
Otteri Selvakumar
आओ चले अब बुद्ध की ओर
आओ चले अब बुद्ध की ओर
Buddha Prakash
■ सीधी बात...
■ सीधी बात...
*Author प्रणय प्रभात*
सफलता का एक ही राज ईमानदारी, मेहनत और करो प्रयास
सफलता का एक ही राज ईमानदारी, मेहनत और करो प्रयास
Ashish shukla
मोरे मन-मंदिर....।
मोरे मन-मंदिर....।
Kanchan Khanna
??????...
??????...
शेखर सिंह
सेल्फी जेनेरेशन
सेल्फी जेनेरेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विचार और विचारधारा
विचार और विचारधारा
Shivkumar Bilagrami
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
पूर्वार्थ
निराला जी पर दोहा
निराला जी पर दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
लौट कर रास्ते भी
लौट कर रास्ते भी
Dr fauzia Naseem shad
मेरी …….
मेरी …….
Sangeeta Beniwal
वफा से वफादारो को पहचानो
वफा से वफादारो को पहचानो
goutam shaw
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
डॉ० रोहित कौशिक
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
Pratibha Pandey
💐प्रेम कौतुक-202💐
💐प्रेम कौतुक-202💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक दोहा दो रूप
एक दोहा दो रूप
Suryakant Dwivedi
2447.पूर्णिका
2447.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
Loading...